अपनों को नक्सली समझकर चला दी गोलियां

रायपुर/जगदलपुर: छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावी क्षेत्र में जवानों ने अपने ही लोगों को दुश्मन समझ कर फायरिंग शुरु कर दी। हालांकि जवानों की दोनों टुकडिय़ों को कोई नुकसान नहीं हुआ। एसडीओपी नारायणपुर पंकज पटेल ने बताया कि, ये क्रास फायरिंग लगभग 20 मिनट तक चली। जांच जारी है।
सूत्रों के अनुसार नारायणपुर के मुरनार क्षेत्र में 14 जून की देर रात सर्चिंग पर निकली डीआरजी की टीम ने अपनी दूसरी पार्टी के जवानों पर नक्सली समझकर फायरिंग की थी। दोनों टीमों के बीच लगभग 20 मिनट तक फायरिंग होने के बाद वायरलेस के माध्यम से यह स्पष्ट हुआ कि, जिस पर फायरिंग हो रही है, वो अपने ही जवान हैं। तब जाकर फायरिंग रुकी। इस बीच जवानों ने हजारों गोलियां गंवा ली थी। हालांकि घटना में कोई घायल नहीं हुआ है। इस घटना की एसडीओपी ने पुष्टि की है।
बताया जा रहा है कि, 14 जून को बासिंग कैम्प से डीआरजी की तीन पार्टियां सर्चिंग पर कोहकामेटा व मुरनार इलाके में रवाना हुई थी। तीनों पार्टियां अलग-अलग दिशाओं में सर्च कर रही थीं। तभी ये हादसा हुआ।
गौरतलब है कि, सोनपुर और कोहकामेटा इलाके में नक्सलियों के बड़े लीडर की मौजूदगी की खबर लगातार आती रही है। कुछ दिनों पहले बासिंग कैम्प से कुछ ही दूर कुंदला से नक्सलियों ने बस्तर ट्रेवल्स की एक यात्री बस को हाईजैक कर सोनपुर ले गए थे, और उसे आग के हवाले कर दिया था। इस घटना के बाद से इलाके में पुलिस ने सर्च आपरेशन तेज कर दिया है।
उल्लेखनीय है कि, कई बार जवानों की टुकड़ी अलग-अलग दिशाओं में सर्चिंग करती है। इसी कारण दिशा भ्रम से ऐसी स्थिति बनींं। पहले नक्सली भी ऐसी घटना के शिकार हो चुके हैं। उन्होंने भी अपनों पर गोलियां दागी थीं।

  • facebook
  • googleplus
  • twitter
  • linkedin
  • linkedin
  • linkedin
Previous «
Next »

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *