डेंगू से बचने अब बीएसपी टाउनशिप में नई मशीन से होगा धुंआ

डेंगू से बचने अब बीएसपी टाउनशिप में नई मशीन से होगा धुंआ

पुरानी खटारा मशीन की जगह बीएसपी पीएचडी ने खरीदी नई मशीन

भिलाई। डेंगू जैसी खतरनाक बीमारी से टाउनशिप के लोगों को बचाने के लिए भिलाई इस्पात संयंत्र के पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट ने नई मशीन खरीदी है। डेंगू मुक्ति के लिए विशेष रूप से बनाई गई इस नई मशीन का इस्तेमाल कुछ दिनों बाद शुरू हो जाएगा। पुणे की एक कंपनी से खरीदी गई मशीन का इंस्टालेशन एक सप्ताह के भीतर कर लिया जाएगा। इस मशीन के उपयोग से बीएसपी को लाखों रुपए की बचत तो होगी ही साथ ही लोगों को डेंगू जैसी गंभीर बीमारी फैलाने वाले मच्छरों से भी छुटकारा मिलेगा। भिलाई इस्पात संयंत्र के पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट द्वारा लिको फॉगिंग मशीन की खरीदी की गई है। लगभग 15 लाख रुपए के इस मशीन की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसमें फॉगिंग के लिए डीजल की जगह केवल पानी का इस्तेमाल किया जाएगा। पानी के इस्तेमाल भी ऐसा कि डीजल के मुकाबले कई गुना कम खर्च पर होगा। साथ ही इसका इस्तेमाल हर सेक्टर में नियमित रूप से किया जा सकेगा। एक अनुमान के अनुसार पूरे टाउनशिप में एक बार फॉगिंग करने का खर्च लगभग दो लाख रुपए पड़ता है। नई मशीन से यह खर्च सिमटकर 10 से 15 हजार रुपए के बीच आ जाएगा।

> कैसे काम करेगा लिको फॉगिंग मशीन
लिको फॉगिंग मशीन को लेकर जो जानकारी सामने आई है उसके अनुसार यह अत्याधुनिक मशीन है। 216 किलो वजनी इस मशीन में फॉगुलेशन टैंक की क्षमता 56.7 लीटर है। फ्लैश टैंक की क्षमता 3.8 लीटर व फ्यूल टैंक 45 लीटर का है। फ्यूल कंजक्शन 7 से 10 लीटर प्रतिघंटा होगी। मशीन से फॉगिंग के लिए 65 लीटर पानी, 10 लीटर पेट्रोल व एक लीटर दवा का इंसतेमाल किया जाएगा, जो दो घंटे तक धुंआ देगा। मशीन का नोजल एयर फ्लो टेक्नालॉजी का है जो 360 डिग्री हारिजेंटल व 200 डिग्री वर्टिकल घूम सकता है। इस मशीन के धुएं के प्रभाव से डेंगू के मच्छरो से राहत मिलने का दावा किया जा रहा है।

> अभी होता है पुराने खटारा मशीन से धुआं
वर्तमान में बीएसपी द्वारा पुराने खटारा मशीन से धुआं किया जा रहा है। इस मशीन के दोघंटे का खर्च लगभग 15000 रुपए का होता है। खर्च बढ़ने के कारण बीएसपी पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट द्वारा इसका नियमित इस्तेमाल भी नहीं किया जा रहा है। पुरानी मशीन दो घंटे फागिंग के लिए 200 लीटर डीजल के साथ 20 लीटर पेट्रोल व एक लीटर दवा की खपत होती है। इससे महज एक सेक्टर की फॉगिंग होती है। 13 सेक्टरों के फॉगिंग के लिए 1.95 लाख का खर्च बैठता है। यानि पूरे टाउनशिप में एक बार फॉगिंग का खर्च लगभग दो लाख रुपए होता है। पानी से चलने वाले नई मशीन से 100 फीसदी डीजल की बचत होगी।

हर माह करेंगे फॉगिंग
नई मशीन के आ जाने से अब हर माह फॉगिंग किए जाने की योजना पर काम हो रहा है। वर्तमान में जो खटारा मशीन है उससे साल में दो सा तीन बार ही फॉगिंग किया जा रहा है। चुंकि नई मशीन से फॉगिंग से 90 फीसदी कॉस्ट कंट्रोल हो रहा है इसे देखते हुए माह में एक बार फॉगिंग की जाएगी। बीएसपी पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट के सूत्रों की माने तो हर माह फॉगिंग करने से टाउनशिप में मच्छर जनित रोगों से पूरी तरह से छुटकारा मिलेगा। यही नहीं नगर निगम क्षेत्र में भी आवश्यकतानुसार मांग किए जाने पर निगम को मशीन फॉगिंग के लिए उपलब्ध कराई जाएगी। ताकि नगर निगम क्षेत्र में भी लिको फॉगिंग मशीन से धुआं कर मच्छरों से लोगों को छुटकारा दिलाया जा सके।

Previous चीन ने 2017 की GDP वृद्धि का लक्ष्य 6.5% तय किया
Next ताला तोड़कर दुकान से ले गए 50 हजार का सामान

About author

You might also like

छत्तीसगढ़ 0 Comments

श्रमिक दिवस पर श्रेष्ठ सफाई मित्रो का किया जायेगा सम्मान

स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत दिनांक 1 मई से 30 जून 2017 तक स्वच्छता पखवाडा का आयोजन किया जा रहा है।</p स्वच्छता पखवाडा के अंतर्गत दिनांक 1 मई 2017 सोमवार

छत्तीसगढ़ 0 Comments

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर स्वच्छता चौपालन

महासमुंद : अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर कल 8 मार्च को पिथौरा विकासखंड के ग्राम सोनासिल्ली, गोड़बहाल, सिरको, जंघोरा एवं मेमरा में स्वच्छता चौपालन का आयोजन कर स्वच्छता के

छत्तीसगढ़ 0 Comments

एसडीआरएफ ने खरीदा 26 करोड़ का फायरफाइटर्स उपकरण

रायपुर : छत्तीसगढ़ के राज्य आपदा प्रबंधन विभाग ने इस बजट सत्र में 26 करोड़ रुपए की लागत से फायरफाइटर्स उपकरण की खरीदी की है। ये जानकारी नगर सेना एवं

छत्तीसगढ़ 0 Comments

कल्लूरी फार्मूले से ही बस्तर पुलिस लड़ेगी लाल आतंकियो से

आईजी विवेकानंद सिन्हा ने कहा प्लान कारगर गोपनियता जरूरी समाज, संगठन, जनता के सहयोग और बेहतर पुलिसिंग की आवश्यकता -अनुराग शुक्ला (ब्यूरो हेड) जगदलपुर. बस्तर में पूर्णकालीक आईकी के कयासों

छत्तीसगढ़ 0 Comments

पचास चिकित्सक छोड़ सकते हें मेकाज का दामन

बस्तर में सेवा देनी की सरकारी शर्तों को नकारने के मूड में दिख रहे हैं युवा चिकित्सक दो वर्ष के बॉन्ड को भरने से किया इंकार कुछ ने कहा कि

छत्तीसगढ़ 0 Comments

लोक सुराज अभियान के प्रथम चरण में प्राप्त आवेदन पत्रों का गुणात्मक समाधान करने के निर्देश

बैकुण्ठपुर : कलेक्टर एस प्रकाश की अध्यक्शता में आज यहाँ जिला कलेक्टोरेट के सभाकक्श में साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में प्रकाश ने लोक सुराज अभियान के तहत

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!