बुर्का, लिपस्टिक और बवाल: फिर विवादों में सेंसर बोर्ड प्रमुख पहलाज निहलानी

बुर्का, लिपस्टिक और बवाल: फिर विवादों में सेंसर बोर्ड प्रमुख पहलाज निहलानी

सेंसर बोर्ड एक बार फिर विवादों में हैं. फिल्म विदेश में रिलीज हो चुकी है और अवॉर्ड भी पा चुकी है. लेकिन भारत में सेंसर बोर्ड इसे रिलीज की इजाजत नहीं दे रहा है. फिल्म का नाम है ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’, जिसमें मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में रहने वाली चार अलग अलग उम्र की महिलाओं की कहानी है.

फिल्म की डायरेक्टर हैं अलंकृता श्रीवास्तव और निर्माता हैं प्रकाश झा. सेंसर बोर्ड से इजाजत क्यों नहीं मिल रही है ये जानने से पहले ये जानना जरूरी है कि फिल्म में उन चार महिलाओं की क्या भूमिका है. कोंकणा सेन शर्मा, प्लबिता, अहाना और रत्ना पाठक शाह ने इन चार महिलाओं की भूमिका निभाई है,

कोंकणा ऐसे किरदार में हैं जो तीन बच्चों की मां हैं लेकिन जिंदगी से खुश नहीं हैं. प्लबिता कॉलेज छात्रा बनी हैं.. जो पिछड़े माहौल में पली बढ़ी है.. लेकिन उसका सपना पॉप सिंगर बनने का है. अहाना ब्यूटीशियन के किरदार में हैं जो अपने प्रेमी के साथ शहर से भागने की फिराक में है और रत्ना पाठक शाह ऐसी विधवा महिला के किरदार में हैं जिसकी उम्र ढल चुकी है.. लेकिन वो अपनी जिंदगी अपने हिसाब से खुल कर जीना चाहती है.

imgratna-pathak
चारों महिला किरदार एक दूसरे से जुदा हैं.. लेकिन चारों ही दोहरी जिंदगी जी रही हैं.. एक जिंदगी वो जो दुनिया से छिपी हुई है यानि बुर्के के भीतर है। और .. दूसरी वो जो दुनिया के सामने है.

अब देखिए कि सेंसर बोर्ड रिलीज की इजाजत क्यों नहीं दे रहा है. सेंसर बोर्ड को एतराज है कि फिल्म लिपस्टिक अंडर माय बुर्का की कहानी में हकीकत कम औऱ कल्पनाएं ज्यादा हैं.

दूसरा एतराज है कि फिल्म में दिखाए गए यौन दृश्य समाज के हिसाब से ठीक नहीं हैं. बोर्ड का तीसरा ऐतराज है कि फिल्म में समाज के कुछ ऐसे हिस्से को भी छुआ गया है जो काफी संवेदनशील हैं

फिल्म के नाम में बुर्का शब्द को जोड़ने पर भी सवाल उठाया गया है. इसके अलावा फिल्म के कई संवादों में आपत्ति और अपमानजनक शब्दों के इस्तेमाल का भी दावा किया गया है. हालांकि फिल्म के निर्माता और निर्देशक सेंसर बोर्ड के रवैये पर सवाल उठा रहे हैं.

इस पूरे विवाद पर हमने महिला अधिकारों के लिए लड़ने वाली महिलाओँ से भी बात की. जिससे भी बात हुई सवालों के घेरे में सेंसर बोर्ड ही रहा. अब सवाल ये कि क्या सेंसर बोर्ड सांप्रदायिक चश्मे से देख रहा है या यहां भी राजनीतिक दलों की तरह मुस्लिम तुष्टिकरण हो रहा है.

Previous पति अभिषेक के कारण ऐश ने नहीं किया अब तक यह काम!!
Next नोटबंदी के बाद भारत की GDP वृद्धि दर घटकर 6.6 प्रतिशत रहने का अनुमान

About author

You might also like

बॉलीवुड 0 Comments

ट्यूबलाइट : आप सोच भी नहीं सकते कि इतने करोड़ में बिके म्यूज़िक राइट्स

ट्यूबलाइट  बाहुबली 2 के सेटेलाइट राइट्स 78 करोड़ में बिके हैं। वहीं अक्षय कुमार और रजनीकांत की फ़िल्म 2.0 के सेटेलाइट राइट्स 110 करोड़ में बेचे गए हैं। इन ख़बरों

बॉलीवुड 0 Comments

पार्टी में साथ दिखे मलाइका अरोड़ा और उनके ‘खास दोस्‍त’ अर्जुन कपूर

अभिनेत्री मलाइका अरोड़ा शनिवार को एक पार्टी में नजर आई. यह पार्टी प्रीता सुखटणकर का जन्‍मदिन मनाने के लिए रखी गई थी. गौरतलब है कि प्रीता ‘द लेबल लाइफ’ नाम

बॉलीवुड 0 Comments

जानिए आखिर क्‍यों रवीना टंडन ने डिजिटल चैनल ‘टीवीएफ’ पर अपनी फिल्‍म का प्रचार करने से किया मना

अपने चैनल में काम करने वाली महिला पर शारीरिक शोषण के आरोपी टीवीएफ के सीईओ अरुणाभ कुमार के लिए एक और बुरी खबर है. हाल ही में ट्विंकल खन्‍ना ने

बॉलीवुड 0 Comments

आयशा टाकिया को देख सोशल म‍ीडिया ने कहा, ‘ये कैसी प्‍लास्टिक सर्जरी कराई है

बॉलीवुड की बबली गर्ल के तौर पर जानी जाने वाली एक्‍ट्रेस आयशा टाकिया अचानक सुर्खियां बटोर रही हैं. अपने स्‍माइल और क्‍यूटनेस के लिए प्रसिद्ध एक्‍ट्रेस आयशा टाकिया हाल ही

मनोरंजन 0 Comments

विनोद खन्ना की वायरल हो रही तस्वीर का सच

मुंबई: अपने वक्त के लोकप्रिय अभिनेता विनोद खन्ना की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. यह तस्वीर कथित तौर पर विनोद खन्ना की है जिसमें वह बेहद

बॉलीवुड 0 Comments

जून में रिलीज होगी दिलजीत दोसांझ की सुपरहीरो वाली फिल्म

पंजाबी अभिनेता दिलजीत दोसांझ ने अपनी आगामी फिल्म ‘‘सुपर सिंह’’ की शूटिंग पूरी कर ली है और यह जून में रिलीज होगी। इस फिल्म का निर्देशन अनुराग सिंह ने किया

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!