वैश्विक आर्थिक झटकों का भारत पर नहीं होगा ज्यादा असर: IMF

वाशिंगटन: भारत की अर्थव्यवस्था अच्छी स्थिति में है और अगर वैश्विक अर्थव्यवस्था को झटका लगता है तो इससे अन्य उभरती अर्थव्यवस्थाओं के मुकाबले भारत पर कम प्रभाव पडऩे की संभावना है। अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह कहा। आईएमएफ के एशिया एवं प्रशांत विभाग में सहायक निदेशक और भारत में मिशन प्रमुख पॉल ए कासिन ने कहा, ‘‘हमने हाल में वैश्विक अर्थव्यवस्था में हल्की वृद्धि देखी है। अगर वैश्विक वृद्धि और मांग पर कोई प्रतिकूल झटका पड़ता है, तो हमें लगता है कि भारत भी इससे प्रभावित होगा लेकिन, इस पर अन्य देशों के मुकाबले असर कम होगा जो भारत की तुलना में निर्यात और व्यापार पर ज्यादा निर्भर करते हैं।’’
उन्होंने कहा, ‘‘नोटबंदी तक भारत में खपत व्यय काफी बेहतर था और इससे आर्थिक वृद्धि को गति मिल रही थी। भारत घरेलू मांग की प्रमुखता वाली अर्थव्यवस्था है यह उस हालात के लिए अच्छा है जब वैश्विक वृद्धि कारक बेहतर नहीं हैं।’’ कासिन के अनुसार यही कारण है कि अगर आने वाले समय में वैश्विक अर्थव्यवस्था के समक्ष संकट आता है तो भारत प्रभावित होगा लेकिन अन्य उभरती अर्थव्यवस्थाओं के मुकाबले असर कम होगा। मुद्राकोष ने इस सप्ताह भारत पर अपनी सालाना रिपोर्ट में वित्त वर्ष 2016-17 की आर्थिक वृद्धि दर कम होकर 6.6 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया है। इसका कारण नोटबंदी की वजह से ‘अस्थाई तौर पर उत्पन्न बाधाएं’ हैं।

नोटबंदी ने वैक्यूम क्लीनर की तरह नकदी को सोख लिया
भारत में नोटबंदी से नकदी की गंभीर समस्या पैदा हुई और इससे उपभोग बुरी तरह प्रभावित हुआ। अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष के एक अधिकारी ने कहा कि नोटबंदी ने नकदी को वैक्यूम क्लीनर की तरह सोख लिया। अब धीमी रफ्तार से नकदी को बदला जा रहा है। केसीन ने कहा, ‘‘आपने गैर परंपरागत मौद्रिक नीतियों के जरिए ‘हेलीकॉप्टर से पैसा’ गिराने के बारे में सुना होगा। इसी तरह नोटबंदी की पहल को वैक्यूम क्लीनर की तरह लिया जा सकता है। कैसीन ने इस बारे में पूछे गए सवाल पर कहा, ‘‘यह नकदी को सोखने जैसा है। बाद में वैक्यूम क्लीनर उलटा चलकर पैसा डाल रहा है, हालांकि इसकी रफ्तार काफी धीमी है। इससे नकदी का संकट पैदा हुआ है जिससे उपभोग पर प्रतिकूल असर पड़ा है।’’ बाजार में नकदी के संकट के मद्देनजर आईएमएफ ने अपनी रिपोर्ट में भारत सरकार से नए बैंक नोटों को डालने का काम तेजी से करने को कहा है। जरूरत होने पर अस्थायी छूट मसलन ग्रामीण और दूरदराज के इलाकों में पुराने नोटों के इस्तेमाल की अनुमति देने को कहा गया है।

Previous आयशा टाकिया को देख सोशल म‍ीडिया ने कहा, 'ये कैसी प्‍लास्टिक सर्जरी कराई है
Next पति अभिषेक के कारण ऐश ने नहीं किया अब तक यह काम!!

About author

You might also like

बिज़नेस 0 Comments

चीन ने 2017 के लिए रक्षा बजट बढ़ाकर 152 अरब डॉलर किया

बीजिंगः चीन ने अपना सैन्य खर्च 7 प्रतिशत बढ़ाकर 152 अरब डॉलर कर दिया है। यह भारत के रक्षा बजट के मुकाबले 3 गुना अधिक है। हालांकि, चीन के प्रधानमंत्री

ब्रेकिंग 0 Comments

सेंसेक्स 48 अंक गिरावट पर बंद हुआ, निफ्टी 9140 पर बंद

नई दिल्ली : शेयर बाजार लगातार तीसरे कारोबारी दिन गिरावट के साथ बंद हुए. सेंसेक्स 48 अंक गिरावट के साथ 29413 के स्तर पर बंद हुआ. वहीं, निफ्टी 9140 पर

बिज़नेस 0 Comments

बाजार की तेज शुरुआत, सैंसेक्स में 170 अंक की तेजी

मजबूत विदेशी संकेतों के बीच गुरूवार के सत्र में भारतीय शेयर बाजार की शुरूआत आज बढ़त के साथ हुई। प्रमुख सूचकांक सैंसेक्स 170 अंक की बढ़ौतरी के साथ 29568 के

बिज़नेस 0 Comments

GST: 2.5 पर्सैंट बढ़ सकती है AC की कीमत

कंज्यूमर ड्यूरेबल सैक्टर की कंपनियां समर सीजन में कीमतें 2.5 पर्सैंट बढ़ा सकती हैं। नोटबंदी के असर, कैश की समस्या खत्म होने और सेल के नॉर्मल होने का इंतजार कर

बिज़नेस 0 Comments

यह कंपनी दे रही है 73 रुपए में अनलिमिटेड 4G डाटा

इन दिनों टैलीकॉम कंपनियां सस्ता से सस्ता प्लान लांच कर रही हैं। रिलायंस जियो ने ऑफर्स की झड़ी लगा दी जिसके बाद से टैरिफ भी सस्ते हो गए हैं लेकिन

ब्रेकिंग 0 Comments

सेंसेक्स 57 अंक और निफ्टी 13 अंक गिरकर बंद

नई दिल्ली : शेयर बाजार गिरावट के साथ बंद हुए. सेंसेक्स 57 अंक गिरकर 29,365 पर और निफ्टी 13 अंक गिरकर 9,122 पर बंद हुआ. वैश्विक स्तर पर मजबूत रुख

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!