मर्जर से पहले Vodafone ने किया था दूरसंचार विभाग से संपर्क

मर्जर से पहले Vodafone ने किया था दूरसंचार विभाग से संपर्क

वोडाफोन इंडिया ने आदित्य बिड़ला समूह की दूरसंचार कंपनी आइडिया सेल्युलर के साथ विलय प्रक्रिया शुरू करने से पहले दूरसंचार विभाग से संपर्क किया था। यहां तक कि वोडाफोन ग्रुप के सीईओ विटोरियो कोलाओ का विमान मुंबई के छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उतरने से पहले ही कंपनी के अधिकारियों ने विभाग से संपर्क साधा था।

दूरसंचार विभाग से किया था संपर्क
वोडाफोन ने पिछले सप्ताह आइडिया के साथ अपने प्रस्तावित विलय की मंजूरी के लिए दूरसंचार विभाग से संपर्क किया था। सूत्रों ने बताया कि कंपनी द्वारा मांगी गई मंजूरियां केंद्र सरकार के विलय एवं अधिग्रहण दिशानिर्देशों के तहत प्रदान की जाती हैं। आइडिया ने वोडाफोन इंडिया और उसकी पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक इकाई वोडाफोन मोबाइल सर्विसेज के साथ विलय के लिए अपनी मंजूरी की घोषणा की है। हालांकि यह विलय शेयरधारकों, ऋणदाताओं, भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी), भारतीय रिजर्व बैंक एवं अन्य सरकारी नियामकों की मंजूरियों पर निर्भर करेगा। विशेषज्ञों का कहना है कि वोडाफोन इंडिया के साथ आइडिया के विलय भारतीय दूरसंचार बाजार में रिलायंस जियो के खिलाफ काफी रणनीतिक साबित होगी। उन्होंने कहा कि दोनों कंपनियों के पास अधिकांश उपलब्ध स्पेक्ट्रम एकीकृत कंपनी के पास रहेगा जबकि कुछ दूरसंचार सर्किल में उसे अतिरिक्त स्पेक्ट्रम लौटाना पड़ेगा।

दूरसंचार क्षेत्र में आएगी स्थिरता
आइडिया और वोडाफोन को गुजरात, महाराष्ट्र, हरियाणा, केरल और उत्तर प्रदेश (पश्चिम) सर्किल में 900 मेगाहट्र्ज और 2,500 मेगाहट्र्ज बैंड में अतिरिक्त स्पेक्ट्रम लौटाना पड़ेगा ताकि एकीकृत कंपनी के पास भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) द्वारा निर्धारित सीमा से अधिक स्पेक्ट्रम न रह सके। सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीओएआई) के महानिदेशक राजन एस मैथ्यू ने कहा कि इस विलय से दूरसंचार क्षेत्र में थोड़ी स्थिरता भी आएगी। यह दोनों कंपनियों के लिए फायदे का सौदा है और इससे बाजार में यह संदेश जाएगा कि वहां एक दमदार खिलाड़ी भी मौजूद है।

रकम जुटाने का रास्ता साफ
मैथ्यू ने कहा कि इस विलय से दोनों कंपनियों के लिए बाजार से रकम जुटाने का रास्ता भी साफ होगा। वोडाफोन और आइडिया के विलय का मतलब साफ है कि भारती एयरटेल को देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी का तमगा छोडऩा होगा। भारती ने 23 फरवरी को एक नकदी रहित सौदे के तहत टेलीनॉर इंडिया के अधिग्रहण की घोषणा की थी। इसके साथ ही नॉर्वे की कंपनी देश से अपना कारोबार समेट रही है क्योंकि यहां उसका कारोबार अस्थिर हो गया था। भारती अब टेलीनॉर द्वारा अधिग्रहीत अतिरिक्त स्पेक्ट्रम और टावर पट्टों एवं बुनियादी ढांचे के लिए उसके अनुबंधों को भी हासिल करेगी।

Previous नहीं बिक सका विजय माल्या का निजी जेट
Next B'DAY SPCL: इस शख्स की वजह से रानी मुखर्जी है सोशल मीडिया से दूर

About author

You might also like

बिज़नेस 0 Comments

अब ATM से नहीं निकलेंगे नकली नोट, RBI ने उठाया कदम

नई दिल्ली : अब एटीएम मशीन से नकली नोट निकलने या फिर जमा करने की समस्या से निजात मिल जाएगा। रिजर्व बैंक ने संज्ञान ले लिया है। आरबीआई के आदेशनुसार,

छत्तीसगढ़ 0 Comments

अब घर बैठे एक क्लिक पर मनचाही किताब मंगाए

रायपुर: रायपुर के युवा उद्यमी लक्ष्य पारख ने एक अनूठी पहल शुरू की है. इसके तहत अब एक क्लिक पर घर बैठे हर किताब मात्र दो घंटो के भीतर प्राप्त

बिज़नेस 0 Comments

Jio को टक्कर देने के लिए airtel ने किए ये भारी फेरबदल

टेलिकॉम कंपनी भारती एयरटेल किसी भी मामले में जियो से पीछे नहीं रहना चाहती। प्रीप्रेड प्लान के बादअब एयरटेल ने अपने ‘myPlan Infinity’पोस्टपेड प्लान्स में बदलाव कर दिए है। अब

बिज़नेस 0 Comments

Sensex 118 अंक चढ़ा, Nifty में 39.05 अंक की बढ़त

नई दिल्लीः कल अमरीकी बाजारों में मिला-जुला कारोबार देखने को मिला। नए हेल्थकेयर बिल पर होने वाली वोटिंग पर सबकी नजर लगी हुई है। कच्चे तेल में गिरावट और हेल्थकेयर

बिज़नेस 0 Comments

दुनिया के अरबपतियों में छाएं हैं अप्रवासी भारतीय

जर्मनी और भारत मूल के अप्रवासी दुनिया के अरबपतियों की सूची में शीर्ष पर हैं। इनमें पहले स्थान पर जर्मनी, जबकि दूसरे स्थान पर भारत के अप्रवासी अरबपतियों का नाम

बिज़नेस 0 Comments

लगातार दूसरे सप्ताह गेहूं और अन्य मोटे अनाजों में गिरावट जारी

नई दिल्लीः आटा मिलों के कमजोर उठान के मुकाबले उत्पादक क्षेत्रों से आपूर्ति बढऩे के बाद पर्याप्त स्टॉक जमा होने के कारण बीते सप्ताह राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के थोक अनाज

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!

Leave a Reply

Leave a Reply