कार्यकारिणी की बैठक के बाद चेम्बर अध्यक्ष ने दिखाए तीखे तेवर

कार्यकारिणी की बैठक के बाद चेम्बर अध्यक्ष ने दिखाए तीखे तेवर

–अनुराग शुक्ला(ब्यूरो हेड)

संस्था के प्रति आस्था नहीं दिखा पाए 11 व्यापारियों को भेजा जाएगा पत्र
77 में से 66 व्यापारियों का यू टर्न, इस्तीफे को लेकर उठे सवाल

जगदलपुर. बस्तर चैम्बर ऑफ कार्मस में लगातार व्यपारियों के त्याग पत्र सौंपने और अपनी सदस्यता वापस लिए जाने की बात तथा अध्यक्ष के प्रति असंतोष को लेकर चले आ रहे विवाद को चेम्बर अध्यक्ष ऋषि हेमाणी ने विराम देने का प्रयास किया है। व्यापारियों के त्याग पत्र और इसके बाद चैम्बर के सदस्यों और पदाधिकारियों के समक्ष दूसरे राग को अलापने के बाद चैम्बर में कार्यकारिणी सदस्यों की एक विशेष बैठक आहूत की गई। इस बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लेने के बाद बचेका अध्यक्ष ने एक पत्रवार्ता के माध्यम से यह खुलासा किया है कि अब तक जितने भी व्यापारियों ने इस्तीफा की मंशा पेश की थी उसमें से महज 11 व्यापारी ही ऐसे हैं जिनसे संपर्क नहीं हो सका या फिर कोई सार्थक बात नहीं हो सकी है। ऐसे स्थिति में बचेका ने यह निर्णय लिया है कि इन व्यापारियों से संपर्क साधने का प्रयास किया जाएगा और इन्हें पत्र भी प्रेषित किया जाएगा। सभी व्यापारी चेम्बर परिवार का हिस्सा हैं। इसके बाद भी व्यापारी यदि नहीं मानते हैं तो वे अपने निर्णय के लिए स्वतंत्र हैं। अध्यक्ष ने स्पष्ट किया कि मेन रोड के व्यापारियों को सामने करके कुछ असंतुष्ट लोगो ने चैम्बर में फूट डाने का प्रयास किया और अध्यक्ष सहित कार्यकारिणी की कार्यशैली पर सवाल खड़े किए। उन्होंने किसी वर्ग विशेष का नाम नहीं लेते हुए कहा कि चैम्बर का गौरवशाली इतिहास रहा है। हम हमेशा व्यापारियों के साथ रहे हैं और व्यापारी यदि संघ के प्रति अपनी आस्था दिखाते हैं तो हम उनके साथ हैं। अध्यक्ष ने खुला आरोप लगाया है कि व्यापारियों को बरगला कर उनसे इस्तीफे के लिए हस्ताक्षर करवाया गया है। उन्होंने कहा कि कई व्यापारियों ने उनसे व्यक्तिगत तौर पर इस बात की शिकायत की है। यही नहीं व्यापारियों के हस्ताक्षर की विश्वसनियता पर भी अध्यक्ष ने सवाल खड़े करते कहा है कि यदि कोई व्यापारी संघ की रीति नीति से असंतुष्ट है तो वो अपने संस्था के लैटर हैड पर अपना इस्तीफा एक नियत प्रक्रिया के तहत दे सकता है, इसके बाद चेम्बर के पदाधिकारी और वरिष्ठ इसपर विचार करेंगे।

इस्तीफा देने वाले 35 बचेका के सदस्य ही नहीं

हेमाणी ने बताया कि बचेका 2200 व्यापारियों की संस्था है। इसमें मात्र 112 लोगों के हस्ताक्षरित पत्र चेम्बर में मनीष शर्मा द्वारा दिया गया था जिसमे से 35 ऐसे व्यापारी हैं जो बचेका के सदस्य ही नहीं हैं। शेष 77 व्यापारियों में से 66 लोगों ने पत्र के माध्यम से बचेका को अपना समर्थन दिया है । मात्र 11 व्यापारियों को छोडक़र सभी ने चैम्बर के प्रति आस्था और विश्वास का पत्र प्रेषित किया है। यह 11 केशकाल के व्यवसायी हैं, इनसे भी वास्तविकता जानी जाएगी और जानकारी ली जाएगी।
बायलॉज में संशोधन एक प्रक्रिया के तहत
अध्यक्ष ने बताया कि जो व्यापारी इस बात का आरोप लगा रहें हैं कि बचेका के बॉयलाज में संशोधन किया गया है। वो संशोधन मेरे कार्यकाल का नहीं है। यह संशोधन एक प्रक्रिया के तहत पैटर्न कमेटी के सदस्य और आम सभा आहूत कर की गई थी। इसमें सभी व्यापारियों का समर्थन रहा है। इसके बाद संशोधन को सर्वसम्मति से पारित किया गया है।

Previous अमेरिकी शख्स ने फेसबुक पर अपनी मौत का लाइव-स्ट्रीम किया
Next पुलिस- नक्सली मुठभेड़ में मलांगिर कमेटी के शीर्ष लीडरों को मार गिराया

About author

You might also like

छत्तीसगढ़ 0 Comments

होली का खुमार

भिलाई। त्योहारों के देश में होली त्योहार का अपना ही महत्व है। चारों ओर खुशियां बिखेरता यह पारंपरिक त्योहार का इंतजार हर वर्ग के लोगों को होता है। क्या बच्चे,

छत्तीसगढ़ 0 Comments

राष्ट्रीय सुरक्षा जागरण मंच बस्तर यात्रा अभियान पर

राष्ट्रीय सुरक्षा जागरण मंच से सदस्य गण पुरे देश से 100 की संख्या में दिनाँक 22 मार्च से 25 मार्च तक बस्तर यात्रा अभियान पर रहेंगे । यात्रा का मकसद

छत्तीसगढ़ 0 Comments

कलेक्टर ने स्कूली बच्चों के साथ लिया मिड डे मील

बैकुण्ठपुर. कलेक्टर श्री एस प्रकाष ने अपने भ्रमण के कडी़ में आज आदिवासी बहुल विकासखण्ड सोनहत के वनों से अच्छादित ग्राम पंचायत कछाड़ी के ग्राम लोलकी पहुचे और वहाॅ संचालित

छत्तीसगढ़ 0 Comments

महिला शिखर सम्मान समाहरोह संपन्न

पुलिस, सेना, परिवहन एवं उद्द्योग जैसे क्षेत्रो में जहा महिलाये बड़ी अल्प संख्या में हुआ करती थी आज इन शेत्रो में महिलायें अपनी भूमिका अदा कर रहीं हैं यह नारी

छत्तीसगढ़ 0 Comments

भा.ज.पा. शासन में बेरोजगारी और मानव तस्करी – अभिशाप: आनंद मिश्रा

रायपुर : छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आनंद मिश्रा ने जारी विज्ञप्ति में भाजपा शासन में बढ़ रही बेरोजगारी और विभिन्न क्षेत्रों से मानव तस्करी के बढ़ते आंकड़े पर इसे भाजपा शासन का

छत्तीसगढ़ 0 Comments

सुकमा: नक्सली हमले में शहीद जवानों के परिजनों को 1 करोड़ के मुआवजे का ऐलान

रायपुरः छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले में नक्सली हमले में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के 12 जवान शहीद हो गए जबकि तीन अन्य जवान घायल हो गए। राज्य के

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!

Leave a Reply

Leave a Reply