मणिपुर में बीजेपी की अग्निपरीक्षा आज

मणिपुर में बीजेपी की अग्निपरीक्षा आज

मणिपुर विधानसभा चुनाव 2017 में नंबर दो पर रहने के बावजूद 32 विधायकों के समर्थन से सरकार बनाने में कामयाब रही भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की अग्नि परीक्षा सोमवार को होने जा रही है, और उन्हें फ्लोर टेस्ट का सामना करना है.

दरअसल, 11 मार्च को घोषित चुनाव परिणामों में मणिपुर की 60-सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस 28 सीटों के साथ अव्वल स्थान पर रही थी, और बीजेपी को सिर्फ 21 सीटें मिल पाई थीं, लेकिन कांग्रेस के अलावा अन्य विधायकों के समर्थन के दावों के साथ बीजेपी ने भी सरकार गठन का दावा पेश किया था, जिसे राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला ने मान लिया, और उन्हें न्योता दे दिया. इसके बाद बुधवार, 15 मार्च को बीजेपी नेता एन बीरेन सिंह को मुख्‍यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई थी, और एनपीपी नेता यूमनाम जयकुमार सिंह को डिप्‍टी सीएम के रूप में पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई गई.

बीरेन सिंह को पिछले सोमवार (13 मार्च) को सर्वसम्मति से बीजेपी विधायक दल का नेता चुना गया था और उन्होंने राज्यपाल से मुलाकात कर राज्य में अगली सरकार बनाने का दावा पेश किया था. इबोबी सिंह के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार के पूर्व मंत्री बीरेन ने मणिपुर की सेवा करने का मौका देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी नेतृत्व का आभार जताया था. बीरेन सिंह को सरकार बनाने का निमंत्रण उस दिन दिया गया था, जब एनडीए में शामिल नगा पीपुल्स फ्रंट के चार सदस्यों ने राज्यपाल से मुलाकात कर सरकार गठन के लिए बीजेपी को समर्थन देने की घोषणा की.

राजभवन सूत्रों ने बताया था कि नगा पीपुल्स फ्रंट के चार विधायकों ने राज्यपाल से मुलाकात की थी और बीजेपी को समर्थन देने की घोषणा की थी. गोवा के बाद मणिपुर दूसरा ऐसा राज्य बना, जहां हालिया संपन्न विधानसभा चुनाव में सबसे बड़े दल के रूप में नहीं उभरने के बावजूद बीजेपी की गठबंधन सरकार बन गई है.

मणिपुर एवं गोवा में सरकार बनाने के प्रयासों को लेकर कांग्रेस की आपत्तियों को खारिज करते हुए बीजेपी ने कहा था कि कांग्रेस पर्याप्त संख्याबल जुटाने में विफल रही तथा अपने पूर्व के कर्मों के कारण उसे विरोध करने का कोई नैतिक अधिकार नहीं. केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने संसद परिसर में कहा था, ‘कांग्रेस ने विगत में कई बार अधिकारों और अनुच्छेद 356 का दुरुपयोग कर गैर-कांग्रेसी सरकार को गिराया है… उसने सबसे बड़े दल को सरकार नहीं बनाने दी… उनके पास आलोचना करने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है…

इस बीच, मणिपुर में करीब पांच माह से जारी यूनाइटेड नगा काउंसिल (यूएनसी) की आर्थिक नाकेबंदी रविवार मध्यरात्रि के बाद समाप्त हो गई. सेनापति जिला मुख्यालय में आयोजित केंद्र, राज्य सरकार और नगा समूहों की बातचीत के बाद एक आधिकारिक बयान में कहा गया था, ‘यूएनसी नेताओं को बिना शर्त रिहा किया जाएगा और आर्थिक नाकेबंदी को लेकर नगा जनजातीय नेताओं और छात्र नेताओं के खिलाफ चल रहे मामलों को खत्म किया जाएगा…’ राज्य में पूर्व मुख्यमंत्री ओकराम इबोबी सिंह की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार के सात नए जिले बनाए जाने के फैसले के खिलाफ यूएनसी ने 1 नवंबर, 2016 को आर्थिक नाकेबंदी शुरू की थी.

Previous अब एक हुए आइडिया और वोडाफोन
Next फेसबुक Live में दुनिया ने देखा मौत का पूरा माजरा

About author

You might also like

राष्ट्रीय 0 Comments

BMC Election 2017 : BJP को चित करने shiv sena ने शुरू की congress से सौदेबाजी

नई दिल्ली : बीएमसी चुनाव में तीसरे नंबर पर रही कांग्रेस किंगमेकर की भूमिका में नजर आने लगी है। मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक शिवसेना ने मेयर पद

राष्ट्रीय 0 Comments

इंडियन आइडल की सिंगर के खिलाफ जारी हुए 46 फतवे

हमारे देश में कट्टरपंथ किस तरह अपनी जड़े जमा रहा है। इसका सबूत है यह घटना जिसमें एक सिंगर के खिलाफ एक दो नहीं बल्कि पूरे 46 फतवे जारी किए

राष्ट्रीय 0 Comments

गोवा में पार्रिकर सरकार का फ्लोर टेस्ट आज

मनोहर पार्रिकर सरकार को आज गोवा में बहुमत साबित करना है। कांग्रेस से कम सीटें लाकर भी भाजपा ने अन्य दलों के सहयोग से गोवा में सरकार बनाई है। मनोहर

बड़ी खबर 0 Comments

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर कलेक्टर की खरी खरी पुरुषों से बराबरी का दर्जा मांगते हो तो सजा भी बराबर लेने के लिए रहें तैयार

भिलाई। अंतराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर श्री शंकराचार्य इंजीनियरिंग कॉलेज जुनवानी में जिला पुलिस द्वारा सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में विशेष रूप से उपस्थित जिले के

ब्रेकिंग 0 Comments

आज से नकदी निकासी की सीमा खत्म

नई दिल्ली. होली के पर्व के साथ लोगों को एक बड़ी राहत मिलेगी. सोमवार से बचत खाते से नकद निकासी की सीमा को समाप्त कर दिया जाएगा. यानी खाताधारक अपने

राष्ट्रीय 0 Comments

राजनाथ ने असम के हालात की समीक्षा की

नयी दिल्ली : केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल तथा केंद्र एवं प्रदेश के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ राज्य के हालात की समीक्षा की।

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!

Leave a Reply

Leave a Reply