भूलकर भी न पहने ऐसा मोती

भूलकर भी न पहने ऐसा मोती

ज्योतिष में मनुष्य की समस्याओं के समाधान के लिए रत्नों को पहने की सलाह दी जाती है लेकिन रत्न की परख कैसे करें यह बहुत बड़ा सवाल है।

अगर रत्न में कोई दोष है तो उसका लाभ उतना नहीं मिलता, जितना की मिलना चाहिए या फिर लाभ के बजाए हानि होने लगता है। इसलिए रत्नों की सही परख आनी चाहिए।

आज हम आपको बताते हैं मोती से जुड़ी कुछ खास बातें जो आपको जाननी चाहिए। अन्यथा दोषयुक्त मोती पहनने से आपको बड़ी हानि हो सकती है।

1- जरठ मोती- जिस मोती में चमक या आभा न हो और हथेली पर रखने से यदि उसकी प्रतिछाया नहीं बनती है तो उसे जरठ मोती कहते हैं। ऐसे मोती पहने वाले व्यक्ति की अचानक मौत हो जाती है।

2- अतिरिक्त मोती- जिस मोती में मूंगे के समान छाया होती है उसे अतिरिक्त मोती कहते हैं। इसे पहनने से गरीबी आती है, रोजगार में बाधा पड़ती है।

3- मत्स्याक्ष मोती- जिस मोती में मछली की आंख के समान कोई निशान हो उसे मत्स्याक्ष मोती कहत हैं, इसे पहनने से पुत्र का नाश होता है।

4- शुक्ति लग्न- जिस मोती में चमक कम और कोई निशान पाया जाता है, ऐसा मोती पहनने से कुष्ठ रोग होता है।

5- जो मोती गोल न होकर लंबा हो वह कृश दोष वाला होता है। इसको धारण करने से बुद्धि का नाश होता है।

6- जो मोती चपटा होता है वह आवृत दोष युक्त होता है। इसके पहनने से अनर्थ होता है।

7- जिस मोती में कहीं पर भी दूसरे रंग का धब्बा दिखाई दे तो उसे अशुभ माना जाता है।

8- जो मोती फफोले के समान उठा होता है, उसे पहनने से चिंताएं बढ़ती हैं।

9- जिस मोती के ऊपर रेखाएं हों ऐसा मोती चित्रावृत्त दोष वाला होता है। इससे पहनने से सौभाग्य का नाश होता है।

10- जिस मोती में तीन कोने निकले हों उसमें त्रास युक्त दोष होता है, इसे धारण करने से सुख शांति नष्ट होती है।

11- खंडित मोती कभी भी न पहनें, इससे संपत्ति का नाश होता है।

12- तांबे जैसी सुर्खी लिए मोती को पहनने से पत्नी का विनाश होता है।

13- जिस मोती का चोंच हो या एक ओर से नुकीला हो तो इससे कुल की हानि होती है।

14- जिस मोती में मोटा धब्बा हो उसे कभी न पहनें, इससे संतान की हानि होती है।

15- पतला मोती स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है।

16- जिस मोती में चमक न हो उसे न पहनें। उसे पहनने से व्यक्ति दरिद्र होता है।

Previous Vastu: प्रेग्नेंट महिला के कमरे में रखें ये चीजें
Next 4 माओवादियों की गिरफ्तारी में मिली सफलता

About author

You might also like

धर्म/अध्यात्म 0 Comments

Thursday को करें ये उपाय, मनचाहे Partner से तुरंत होगी पक्की बात

शादी न केवल दो लोगों के बीच बंधा बंधन है बल्कि उनके साथ-साथ सामाजिक बंधन भी जुड़ जाता है। कहा जाता है कि जोड़ियां स्वर्ग में बनती हैं। विवाह समारोह,

धर्म/अध्यात्म 0 Comments

नवरात्रि : अखंड ज्योति खंडित न हो

शास्त्रों में दुर्गा के नौ रूप बताए गए हैं। नवरात्रि के नौ दिनों में माता के नौ स्वरूपों (शैल पुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कूषमांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी तथा सिद्धिदात्री) की

धर्म/अध्यात्म 0 Comments

स्वप्न में आकर देवी ने डांटा, बलि न देने पर

खेतुरी नामक गांव में एक ब्राह्मण रहता था। एक दिन उसके दो पुत्र हरिराम अचार्य तथा रामकृष्ण आचार्य पिता जी के आदेश पर देवी को बलि देने के लिए बकरी

धर्म/अध्यात्म 0 Comments

शनि की साढ़ेसाती या ढैया भी लाती है Good Luck

शनि अन्य ग्रहों की अपेक्षा बहुत विशाल एवं सूर्य से सर्वाधिक दूरी पर स्थित है। यह पूर्णतया क्रांतिहीन ग्रह है और अन्यान्य ग्रहों की अपेक्षा इसकी गति भी सर्वाधिक मंद

धर्म/अध्यात्म 0 Comments

जिस घर में हर शुक्रवार होता है ये काम, वहां कभी नहीं रहता धन का अभाव

धन को प्राप्त करने के लिए जरुरत है मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने की। इसका सरल एवं उत्तम साधन है स्फटिक श्री यंत्र। श्री का अर्थ है धन और यंत्र

धर्म/अध्यात्म 0 Comments

आज से शुरू हो रहा है होलाष्टक

शास्त्रों के अनुसार होलिका दहन के आठ दिन पूर्व होलाष्टक लग जाता है। होली की सूचना होलाष्टक से प्राप्त होती है। फाल्गुन शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि से लेकर होलिका

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!

Leave a Reply

Leave a Reply