भारतीय आम के लिए दक्षिण कोरिया ने बाजार खोला

भारतीय आम के लिए दक्षिण कोरिया ने बाजार खोला

इस साल भारत के आम निर्यात में खासी तेजी की संभावना है। कीट जोखिम की कठोर जांच (पीआरए) के बाद दक्षिण कोरिया द्वारा इस फल के आयात की अनुमति से यह आस जगी है। दक्षिण कोरिया ने 2016 में खासतौर पर थाईलैंड, फिलीपींस, ताइवान, वियतनाम, पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, पेरू और अमरीका से 4.8 करोड़ डॉलर मूल्य का आम आयात किया है। भारत में उपजे आम की खाड़ी देशों, अमरीका और यूरोपीय देशों में लोकप्रियता होने के कारण दक्षिण कोरियाई बाजार में भारत के प्रवेश से प्रतिस्पर्धा काफी बढ़ जाएगी।

निर्यातक बुक करा सकते हैं स्लॉट
14 मार्च, 2017 को अपने सदस्यों के लिए जारी एक परामर्श में कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीडा) ने कहा है कि दक्षिण कोरिया की एनीमल ऐंड प्लांट क्वैरेंटाइन एजेंसी (क्यूआईए) विशेष तापमान वाली परिस्थितियों में वैपोर हीट ट्रीटमेंट (वीएचटी) के बाद भारतीय आम के दक्षिण कोरिया में आयात पर आखिरकार सहमत हो गई है। एपीडा होर्टी नेट व्यवस्था के अंतर्गत पंजीकृत किसानों को इस निर्यात की अनुमति दी जाएगी। इसलिए इसमें रुचि रखने वाले निर्यातक दक्षिण कोरिया को निर्यात करने वाले आमों के प्रसंस्करण के लिए अपना स्लॉट बुक करा सकते हैं।

पिछले साल आम निर्यात में गिरावट
भारत के लिए नए बाजार का खुलना इसलिए महत्त्वपूर्ण है क्योंकि पिछले साल भारत के आम निर्यात में करीब 15 प्रतिशत की गिरावट आई है। एपीडा के द्वारा एकत्रित किए गए आंकड़े दर्शाते हैं कि 2015-16 में भारत का आम निर्यात 36,329 टन रहा जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष में यह 42,998.31 टन था। हालांकि मूल्य के रूप में 2015-16 के दौरान निर्यात करीब स्थिर रहते हुए 4.949 करोड़ डॉलर रहा। पिछले साल यह 5.026 करोड़ डॉलर था। मात्रा की दृष्टि से संयुक्त अरब अमीरात 50 प्रतिशत से ज्यादा और मूल्य की दृष्टि से 60 प्रतिशत आयात करता है। इसके बाद ब्रिटेन का स्थान आता है। संयुक्त अरब अमीरात और ब्रिटेन के आयात में 90 प्रतिशत का अंतर रहता है।

इस बीच दीपक फर्टिलाइजर्स ऐंड पेट्रोकेमिकल्स कॉरपोरेशन लि. की इकाई देसाई फ्रूट्स जैसे प्रमुख निर्यातक भी निर्यात बाजार में भारत की उपस्थिति दर्ज कराते हुए इस सीजन की पहली खेप भेज चुके हैं। लखनऊ के मोहम्मद अशफाक जैसे आम निर्यातकों को इस सीजन के अच्छी गुणवत्ता वाले आम की उपलब्धता न होने से अपनी खेप भेजना अभी बाकी है। हालांकि व्यापारिक सूत्रों का मानना है कि निर्यात गुणवत्ता वाले आम की आवक से एक सप्ताह में निर्यात अपने शीर्ष पर पहुंचना शुरू हो जाएगा।

Previous सस्ते मकान बनाने के लिए Supertech करेगी 4000 करोड़ रुपए का निवेश
Next 9 प्रमुख कंपनियों के महज 18 पर्सैंट फूड प्रोडक्ट्स ‘सही’

About author

You might also like

बिज़नेस 0 Comments

हरिद्वार में हेलीकॉप्टर पर चढ़ते वक्त गिरे अरुण जेटली, हुए बेहोश

हरिद्वार. हरिद्वार में बाबा रामदेव के पतंजली फूडपार्क आये केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली हेलीकॉप्टर पर चढ़ते वक्त गिर पड़े. गिरने की वजह से उनके माथे पर चोटें आई जिससे वो

बिज़नेस 0 Comments

भारत में ऑनलाइन डेटिंग पार्टनर सर्च करने वाले 50 फीसदी बढ़े

भारत में ऑनलाइन डेटिंग पार्टनर सर्च करने वाले लोगों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, 2015 के मुकाबले 2016 में 50 फीसदी अधिक

बिज़नेस 0 Comments

1 अप्रैल से हाईवे पर सफर करना होगा और महंगा

अब अगर आप हाईवे पर फर्राटा भरते सफर कर रहे हैं तो अपनी जेब ढीली करने के लिए तैयार हो जाइए क्योंकि हाईवे का सफर महंगा होने जा रहा है।

बिज़नेस 0 Comments

सैंसेक्स 184 अंक लुढ़का

नई दिल्लीः घरेलू शेयर बाजार आज काफी गिरावट के साथ कारोबार करता दिखाई दिया। शेयर बाजार में गिरावट से उथल पुथल का दौर रहा। सैंसेक्स दिनभर लाल निशान पर कारोबार

बिज़नेस 0 Comments

Jio की ये सर्विस 1 अप्रैल के बाद भी रहेगी फ्री

रिलायंस जियो 1 अप्रैल से अपनी मुफ्त सेवा बंद करने जा रही है और अब इसके ग्राहकों को शुल्क चुकाना होगा। इसके साथ ही उन्हें 99 रुपए में जियो प्राइम

बिज़नेस 0 Comments

सेंसेक्स 600,निफ्टी में 188 अंकों की बढ़त

देश के पांच राज्यों में हुए चुनाव के नतीजों का शेयर बाजार पर सकारात्मक असर देखने को मिल रहा है। होली के अवकाश के बाद मंगलवार को खुले शेयर बाजारों

0 Comments

No Comments Yet!

You can be first to comment this post!

Leave a Reply

Leave a Reply