विश्व गौरैया दिवस : घर-आंगन में फुदकने वाली गौरैया आज विलुप्ति के कगार पर

विश्व गौरैया दिवस : घर-आंगन में फुदकने वाली गौरैया आज विलुप्ति के कगार पर

– गरिमा पांडे

विश्व गौरैया दिवस (World Sparrow Day ) प्रत्येक वर्ष ’20 मार्च ‘ को मनाया जाता है। यह दिवस पूरी दुनिया में गौरैया पक्षी के संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है। घरों को अपनी चीं-चीं से चहकाने वाली गौरैया अब दिखाई नहीं देती। इस छोटे आकार वाले खूबसूरत पक्षी का कभी इंसान के घरों में बसेरा हुआ करता था और बच्चे बचपन से इसे
देखते बड़े हुआ करते थे। अब स्थिति बदल गई है। गौरैया के अस्तित्व पर छाए संकट के बादलों ने इसकी संख्या काफ़ी कम कर दी है और कहीं-कहीं तो अब यह बिल्कुल दिखाई नहीं देती।
शुरुआत : ‘विश्व गौरैया दिवस’ पहली बार वर्ष 2010 में मनाया गया था। यह दिवस प्रत्येक वर्ष 20 मार्च को पूरी दुनिया में गौरैया पक्षी के संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए मनाया जाता है।
उद्देश्य : एक-दो दशक पहले हमारे घर-आंगन में फुदकने वाली गौरैया आज विलुप्ति के कगार पर है। इस नन्हें से परिंदे को बचाने के लिए ही पिछले तीन सालों से प्रत्येक 20 मार्च को ‘विश्व गौरैया दिवस’ के रूप में मनाते आ रहे हैं, ताकि लोग इस नन्हीं-सी चिड़िया के संरक्षण के प्रति जागरूक हो सकें। भारत में गौरैया की संख्या लगातार घटती ही जा रही है।
कुछ वर्षों पहले आसानी से दिख जाने वाला यह पक्षी अब तेज़ी से विलुप्त हो रहा है। दिल्ली में तो गौरैया इस कदर दुर्लभ हो गई है कि ढूंढे से भी ये पक्षी नहीं मिलता, इसलिए वर्ष 2012 में
दिल्ली सरकार ने इसे राज्य-पक्षी घोषित कर दिया।
संकटग्रस्त पक्षी : ‘गौरैया’ पहले यह चिड़िया जब अपने बच्चों को चुग्गा खिलाया करती थी तो इंसानी बच्चे इसे बड़े कौतूहल से देखते थे, लेकिन अब तो इसके दर्शन
भी मुश्किल हो गए हैं और यह विलुप्त हो रही प्रजातियों की सूची में आ गई है। पक्षी विज्ञानी हेमंत सिंह के अनुसार गौरैया की आबादी में 60 से 80 फीसदी तक की कमी आई है। यदि इसके संरक्षण के उचित प्रयास नहीं किए गए तो हो सकता है कि गौरैया इतिहास का प्राणी बन जाए और भविष्य की पीढ़ियों को यह देखने को ही न मिले।
ब्रिटेन की ‘रॉयल सोसायटी ऑफ़ प्रोटेक्शन ऑफ़ बर्डस’ ने भारत से लेकर विश्व के विभिन्न हिस्सों में अनुसंधानकर्ताओं द्वारा किए गए अध्ययनों के आधार पर गौरैया को ‘रेड लिस्ट’ में डाला है। ‘आंध्र विश्वविद्यालय’ द्वारा किए गए अध्ययन के मुताबिक गौरैया की आबादी में करीब 60 फीसदी की कमी आई है। यह ह्रास ग्रामीण और शहरी, दोनों ही क्षेत्रों में हुआ है। पश्चिमी देशों में हुए अध्ययनों के अनुसार गौरैया की आबादी घटकर खतरनाक स्तर तक पहुंच गई है। गौरैया पर मंडरा रहे खतरे के कारण ही सुप्रसिद्ध पर्यावरणविद मोहम्मद ई दिलावर जैसे लोगों के प्रयासों से आज दुनिया भर में 20 मार्च को ‘विश्व गौरैया दिवस’ मानाया जाता है, ताकि लोग इस पक्षी के संरक्षण के प्रति जागरूक हो सकें। दिलावर द्वारा शुरू की गई पहल पर ही आज बहुत से
लोग गौरैया बचाने की कोशिशों में जुट रहे हैं। गौरेया आज संकटग्रस्त पक्षी है, जो पूरे विश्व में तेज़ी से दुर्लभ हो रही है। दस- बीस साल पहले तक गौरेया के झुंड सार्वजनिक स्थलों पर भी देखे जा सकते थे, लेकिन खुद को परिस्थितियों के अनुकूल बना लेने वाली यह चिड़िया अब भारत ही नहीं, यूरोप के कई बड़े हिस्सों में भी काफ़ी कम रह गई है। ब्रिटेन, इटली , फ़्राँस , जर्मनी और चेक गणराज्य जैसे देशों में इनकी संख्या जहाँ तेज़ी से गिर रही है, तो नीदरलैंड में तो इन्हें ‘दुर्लभ प्रजाति’ के वर्ग में रखा गया है। गौरेया का संक्षिप्त परिचय गौरेया ‘पासेराडेई’ परिवार की सदस्य है, लेकिन कुछ लोग इसे ‘वीवर फिंच’ परिवार की सदस्य मानते हैं। इनकी लम्बाई 14 से 16 सेंटीमीटर होती है तथा इनका वजन 25 से 32 ग्राम तक होता है। एक समय में इसके
कम से कम तीन बच्चे होते हैं। गौरेया अधिकतर झुंड में ही रहती है। भोजन तलाशने के लिए गौरेया का एक झुंड अधिकतर दो मील की दूरी तय करता है। यह पक्षी कूड़े में भी अपना भोजन ढूंढ़ लेते हैं।
घटती संख्या के कारण गौरैया की घटती संख्या के कुछ मुख्य कारण निम्नलिखित हैं-
1. भोजन और जल की कमी
2. घोसलों के लिए उचित स्थानों की कमी
3. तेज़ी से कटते पेड़-पौधे 4. गौरैया के बच्चों का भोजन शुरूआती दस- पन्द्रह दिनों में सिर्फ कीड़े-मकोड़े ही होते है, लेकिन आजकल लोग खेतों से लेकर अपने गमले के पेड़-पौधों में भी रासायनिक पदार्थों का उपयोग करते हैं, जिससे ना तो पौधों को कीड़े लगते हैं और ना ही इस पक्षी का समुचित भोजन पनप पाता है। इसलिए गौरैया समेत दुनिया भर के हज़ारों पक्षी आज या तो
विलुप्त हो चुके हैं या फिर किसी कोने में अपनी अन्तिम सांसे गिन रहे हैं।
5. आवासीय ह्रास, अनाज में कीटनाशकों के इस्तेमाल, आहार की कमी और मोबाइल फोन तथा मोबाइल टॉवरों से निकलने वाली सूक्ष्म तरंगें गौरैया के अस्तित्व के लिए खतरा बन रही हैं।
6. आज लोगों में गौरैया को लेकर जागरूकता पैदा किए जाने की जरूरत है, क्योंकि कई बार लोग अपने घरों में इस पक्षी के घोंसले को बसने से पहले ही उजाड़ देते हैं।
7. कई बार बच्चे इन्हें पकड़कर पहचान के लिए इनके पैर में धागा बांधकर इन्हें छोड़ देते हैं। इससे कई बार किसी पेड़ की टहनी या शाखाओं में अटक कर इस पक्षी की जान चली जाती है।

इतना ही नहीं कई बार बच्चे गौरैया को पकड़कर इसके पंखों को रंग देते हैं, जिससे उसे उड़ने में दिक्कत होती है और उसके स्वास्थ्य पर भी विपरीत असर पड़ता है। पक्षी विज्ञानियों की सलाह
पक्षी विज्ञानियों के अनुसार गौरैया को फिर से बुलाने के लिए लोगों को अपने घरों में कुछ ऐसे स्थान उपलब्ध कराने चाहिए, जहां वे आसानी से अपने घोंसले बना सकें और उनके अंडे तथा बच्चे हमलावर पक्षियों से सुरक्षित रह सकें। वैज्ञानिकों का मानना है कि गौरैया की आबादी में ह्रास का एक बड़ा कारण यह भी है कि कई बार उनके घोंसले सुरक्षित जगहों पर न होने के कारण कौए से हमलावर पक्षी उनके अंडों तथा बच्चों को खा जाते हैं। गौरैया आजकल अपने अस्तित्व के लिए मनुष्यों और अपने आसपास के वातावरण से काफ़ी जद्दोजहद कर रही है। ऐसे समय में हमें इन पक्षियों के लिए वातावरण को इनके प्रति अनुकूल बनाने में सहायता प्रदान करनी चाहिए। तभी ये हमारे बीच चह चहायेंगे। मनुष्यों को गौरैया के लिए कुछ ना कुछ तो करना ही होगा, वरना यह भी मॉरीशस के ‘डोडो’ पक्षी और गिद्ध की तरह पूरी तरह से विलुप्त हो जायेंगे। इसलिए सभी को मिलकर गौरैया का संरक्षण करना होगा।

Previous फीस न भरने पर 19 छात्रों को बनाया बंधक
Next राज्यपाल से विधानसभा अध्यक्ष ने की मुलाकात

About author

You might also like

राष्ट्रीय 0 Comments

निराश समाजवादी मान चुके हैं कि उनकी सत्ता गयी

(क्लिपर ब्यूरो) लखनऊ: पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के परिणाम कल शनिवार को आ जाएंगे। एग्जिट पोल के नतीजों से यह स्पष्ट हो रहा है कि उत्तर प्रदेश से समाजवादियों

राष्ट्रीय 0 Comments

PM मोदी बोले, GST का रास्ता साफ होने की उम्मीद

संसद के बजट सत्र का दूसरा चरण आज से शुरू हो रहा है। इस बजट सत्र में शामिल होने से पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने मीडिया से बात करते हुए

राष्ट्रीय 0 Comments

पत्नी ने पत्थर से मार-मार कर की पति की हत्या

मुरैना : मध्यप्रदेश के मुरैना जिले के जौरा पुलिस थाना स्थित गुर्जा का पुरा गांव में आज तड़के एक महिला ने अपने पति के सिर पर भारी पत्थर से मार-मार

राज्य 0 Comments

बाइक से राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने नक्सली हमले का लिया जायजा

जगदलपुर: इंजरम-भेज्जी इलाके में शनिवार को हुई नक्सल वारदात की जांच करने रविवार दोपहर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के विजय कुमार पहुंचे। विजय कुमार ने घटना स्थल तक पहुंचने बाइक का

बिना श्रेणी 0 Comments

हत्या मामले में तीन लोगों को उम्रकैद

नयी दिल्ली : दिल्ली की एक अदालत ने झगड़े में एक व्यक्ति की जान लेने के मामले में तीन लोगों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश वीके

राष्ट्रीय 0 Comments

आरएसएस की तीन दिवसीय बैठक कल से कोयंबटूर में

कोयंबटूर : आरएसएस की कल से यहां शुरू होने वाली तीन दिवसीय बैठक में आरएसएस की प्रांतीय इकाइयों के करीब 1400 निर्वाचित प्रतिनिधि और राज्य इकाइयों के प्रमुख हिस्सा लेंगे

1 Comment

  1. Samrat Vikram Singh Bhadoriya
    मार्च 21, 21:47 Reply
    अति सुन्दर क्या लाइन लिखी है गरिमा जी आप के लिए मेरे पास कोई शब्द नहीं है कैसे आप का सुक्रिया अदा करू आप का मुझे अपना बचपन याद आ गया ।।।

Leave a Reply

Leave a Reply