• Homepage
  • >
  • मनोरंजन
  • >
  • बॉलीवुड
  • >
  • मधुर भंडारकर ने कहा- आज की पीढ़ी को आपातकाल के बारे में बताने के लिए बनाई इंदु सरकार

मधुर भंडारकर ने कहा- आज की पीढ़ी को आपातकाल के बारे में बताने के लिए बनाई इंदु सरकार

बॉलीवुड फिल्म निर्माता मधुर भंडारकर ने शुक्रवार को कहा कि उन्होंने ‘इंदू सरकार’ इसलिए बनाई, क्योंकि आज की युवा पीढ़ी को आपातकाल के बारे में बताना बेहद जरूरी है। भंडारकर ने फिल्म के ट्रेलर लॉन्च पर कहा- मैं हमेशा से ऐतिहासिक फिल्म बनाना चाहता था और 1970 के दशक का मैं बड़ा फैन हूं, जब मैं और मेरे लेखक (अनिल) इस पर विचार कर रहे थे, तब अचानक आपातकाल का विचार आया, इसलिए हमने आपातकाल की पृष्ठभूमि को नाटकीय रूप में पेश करने का विचार किया। उन्होंने कहा- फिल्म की कहानी असल जिंदगी से प्रेरित है और मुझे लगता है कि आज की पीढ़ी को कहानी बताना काफी जरूरी है, क्योंकि उन्हें 1975 से 1977 के 21 महीनों के आपातकाल के बारे में जानकारी नहीं है।”

ट्रेलर लॉन्च के दौरान भंडारकर के साथ पूरी टीम उपस्थित थी। उन्होंने कहा- हालांकि, अब सोशल मीडिया की वजह से बहुत जागरूकता आई है और पिछले पांच-छह सालों में लोग राजनीतिक चीजों के लिए अधिक जागरूक हुए हैं, इसलिए हमने सोचा कि आपातकाल पर फिल्म बनाने का सही समय है। आपातकाल पर आधारित इंदु सरकार 28 जुलाई को सिनेमाघरों में रिलीज होगी। फिल्म के ट्रेलर की बात करें तो इसमें सुप्रिया विनोद ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का किरदार निभाया है वहीं स्वर्गीय संजय गांधी के किरदार में बॉलीवुड एक्टर नील नितिन मुकेश नजर आ रहे हैं। कीर्ति कुल्हरी और अनुपम खेर भी मुख्य भूमिका में हैं।

ट्रेलर की शुरुआत में कहा जाता है- अब इस देश में गांधी के मायने बदल चुके हैं। इसके बाद फिल्म की कहानी आपको आपातकाल में हुई जाद्दतियों की तरफ ले जाती है। कीर्ति को आखिरी बार अमिताभ बच्चन और तापसी पन्नू की पिंक में देखा गया था। वो इस फिल्म में हकलाते हुए बोलती हैं और आपातकाल के दौरान एक विद्रोही कवि का किरदार निभाते हुए आपको दिखेंगी।
एक्ट्रेस के पति को मार दिया जाता है। जिसके बाद वो सरकार का विरोध करना शुरू कर देती हैं। इस दौरान उन्हें जेल भी जाना पड़ता है। जहां उनकी पिटाई होती है। कुल मिलाकर हर तरह से प्रताड़ित किया जाता है इसके बावजूद वो सिस्टम से लड़ती रहती हैं। फिल्म के एक दृश्य में कीर्ति कहती हैं अर्जुन के इरादे हिल सकते हैं, घायल द्रौपदी के नहीं।

  • facebook
  • googleplus
  • twitter
  • linkedin
  • linkedin
  • linkedin
Previous «
Next »

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *