पीएम का गुणगान पढ़ रहे 12वीं के बच्‍चे

राजस्थान की वसुंधरा राजे सरकार बच्चों की किताबों को लेकर फिर विवादों में है। इस बार किताबों में भाजपा सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का गुणगान किया है। 12वीं की राजनीति शास्त्र की किताब में सरकार ने दावा किया है कि भारतीय अर्थव्यवस्था के इतिहास में नोटबंदी का फैसला ऐतिहासिक है और इसके जरिए देश में ‘काले धन की सफाई का अभियान’ चलाया गया। किताब में मोदी सरकार की इस पहल की तारीफ की गई है। हाल ही में प्रकाशित किताब में यह भी लिखा गया है कि देश के कम पढ़े-लिखे लोग और अनपढ़ लोग कैशलेस इकॉनोमी की राह में सबसे बड़े रोड़े हैं। यह किताब पूरे राजस्थान के हजारों स्कूलों के लाखों बच्चों को पढ़ाया जाएगा।

12वीं की अर्थशास्त्र की किताब में नोटबंदी पर एक चैप्टर लिखा गया है। इस चैप्टर में लिखा गया है कि देश के अनपढ़ लोग कैशलेस ट्रांजैक्शन करने में आनाकानी करते हैं। किताब में नोटबंदी के उद्देशयों के बारे में लिखा गया है कि इससे देश में भ्रष्टाचार खत्म होगा। साथ ही चुनावों में ब्लैक मनी (काला धन) का इस्तेमाल रोका जा सकेगा। बता दें कि राज्य के शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने पिछले साल ही इस बात का एलान कर दिया था कि राज्य बोर्ड की टेक्स्टबुक में कैशलेस इकॉनोमी को शामिल किया जाएगा।

किताब में लिखा है कि डिजिटल ट्रांजैक्शन बहुत ही सरल माध्यम है और देश की विकासशील अर्थव्यवस्था के लिए अहम है। इसी तरह राजनीति शास्त्र की किताब में लिखा है कि नोटबंदी से न केवल काले धन की समस्या खत्म होगी बल्कि देशभर में आतंकी गतिविधियों पर लगाम लगाया जा सकेगा। यह किताब ऐसे वक्त में छापी गई है जब देश में नोटबंदी के फायदों पर सवालिया निशान लगाए जा रहे हैं। विपक्ष इसे तुगलकी शिक्षा नीति बता रहा है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने राज्य सरकार से इसे संशोधित कराने की मांग की है। उन्होंने कहा कि राज्य की भाजपा सरकार अपने राजनीतिक एजेंडजे को बच्चों पर थोपना चाहती है और राज्य में एकैडमिक माहौल को खत्म करना चाहती है।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले साल आट नवंबर को रात आठ बजे नोटबंदी लागू किया था। इसके बाद देशबर में 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट प्रचलन से बाहर हो गए थे। लोगों को लंबी-लंबी कतारों में बैंकों के सामने लगना पड़ा था ताकि वो अपने पुराने नोटों को नई करंसी में बदलवा सकें। अभी भी देश के कई इलाकों में खासकर ग्रामीण इलाकों में एटीएम मशीनें खाली हैं, जबकि पीएम मोदी ने 90 दिनों में हालात ठीक करने का वादा किया था। यह बात भी अहम है कि नोटबंदी लागू करने के बाद कैशलेश इकॉनोमी को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार ने अब तक कुल 94 करोड़ रुपये विज्ञापनों पर खर्च किए हैं।

  • facebook
  • googleplus
  • twitter
  • linkedin
  • linkedin
  • linkedin
Previous «
Next »

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *