मंगलवार, मई 17, 2022

Balod : भाजपाइयों व किसानों ने 3 दिन तक दिया निपानी बैंक के सामने धरना

Must Read

Balod : जिला सहकारी केंद्रीय बैंक शाखा निपानी में हुए करोड़ों की हेराफेरी के मामले में तीसरे दिन भी धरना प्रदर्शन शाम तक चला। किसानों के समर्थन में जिले के भाजपाई बैंक के सामने धरना दे रहे थे। लेन-देन 3 दिन से प्रभावित रहा। इस बढ़ते राजनीतिक दबाव के चलते अंततः जिला सहकारी केंद्रीय बैंक दुर्ग के अफसरों को भी किसानों को समझाने के लिए आना पड़ा। (Balod) धरना स्थल पर पूर्व विधायक भैया राम सिन्हा, स्थानीय कांग्रेस नेता संजय चंद्राकर भी किसानों को समझाने पहुंचे। पर किसान इतने आक्रोशित थे कि वे किसी की सुनने तैयार नहीं थे। किसानों का कहना था कि आश्वासन तो पहले भी मिला है कि जल्द पैसा मिल जाएगा।

लेकिन आज 1 महीने हो गए पैसा किसानों को नही मिला है। पीड़ित किसानों की संख्या 500 के करीब है। इस पर जिला सहकारी केंद्रीय बैंक दुर्ग से आए अध्यक्ष जवाहरलाल ने आश्वस्त किया कि जांच चल रही है। (Balod) जिसमें डेढ़ से 2 माह लगेंगे। इसके बाद हफ्ते में 2 दिन 60-60 किसानों का पैसा खाते में डलना शुरू हो जाएगा। बैंक की सीईओ ब्यास ने भी इसी तरह का आश्वासन दिया व जल्द से जल्द विभागीय जांच करवाने की बात कही। किसानों वह भाजपाइयों ने भी इस जांच की रिपोर्ट देने की बात कही।

Balod

जिस पर किसानों का प्रतिनिधिमंडल तय किया गया। 5 किसानों की एक प्रतिनिधि टीम बनाई गई। जो अधिकारियों से रोज जांच रिपोर्ट लेगी कि कितने खातों की जांच हुई और कितने शेष हैं। आगे क्या प्रक्रिया हो रही है। आश्वासन के बाद भाजपाइयों ने धरना समाप्त किया। उम्मीद जताई कि अब किसानों को उनका पैसा मिल पाएगा। इस बैंक में बालोद (Balod)  ही नहीं बल्कि गुंडरदेही ब्लॉक के किसानों का पैसा फसा हुआ है। जिसके चलते गुंडरदेही के पूर्व विधायक वीरेंद्र साहू ने भी इस मामले को पुरजोर तरीके से उठाया था। तो वही किसानों के समर्थन में जिले भर से भाजपाई नेता भी यहां प्रदर्शन में शामिल होने पहुंचे थे।

इस दौरान प्रमुख रुप से जिला भाजपा अध्यक्ष कृष्णकांत पवार, पूर्व विधायक प्रीतम साहू, वीरेंद्र साहू, पवन साहू, भाजपा ग्रामीण मंडल अध्यक्ष प्रेम साहू, महामंत्री वीरेंद्र साहू सहित अन्य नेता और कार्यकर्ता व बैंक से जुड़े हुए किसान मौजूद रहे। किसानों के आक्रोश को देखते हुए पुलिस प्रशासन भी धरना स्थल पर तैनात रहा। भाजपाइयों ने अल्टीमेटम दे रखा था कि अगर किसानों का पैसा जल्द नहीं मिला तो झलमला तिराहे पर चक्का जाम करेंगे।

Balod : मंडल अध्यक्ष ने कहा- पूर्व विधायक व विधायक ने लूटी मामले में वाहवाही

वहीं भाजपा ग्रामीण मंडल के अध्यक्ष प्रेम साहू ने निपानी बैंक घोटाला कांड में पूर्व विधायक भैया राम सिन्हा व विधायक संगीता सिन्हा को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा कि इसमें तो दोनों ने वाहवाही लूट ली है। (Balod) विगत दिनों सोशल मीडिया में पूर्व विधायक द्वारा कुछ किसानों को चेक वितरित करते हुए तस्वीरें सामने आई थी। जिसमें यह बताया गया था कि किसानों का पैसा मिलना शुरू हो गया है। विधायक ने वाहवाही लूटी थी कि हमने मामले को गंभीरता से लिया है और किसानों का पैसा दिया जा रहा है।

लेकिन सिर्फ चार-पांच किसानों को पैसा दिला कर क्या विधायक और पूर्व विधायक अपनी जिम्मेदारी को पूरा समझ रहे हैं। यह उनकी गलतफहमी है। यहां तो 500 से भी ज्यादा किसान पीड़ित है। उनका पैसा कब मिलेगा क्या इस पर विधायक व पूर्व विधायक ध्यान नहीं देंगे। आरोपी की गिरफ्तारी के बाद भी इसमें पैसा वापसी को लेकर ढिलाई बरती जा रही है। सभी पीड़ितों का पैसा उनके खाते में वापस आना चाहिए। वरना आगे भाजपा द्वारा और उग्र आंदोलन किया जाएगा।

Balod : जानिए क्या था मामला

दरअसल एक माह पूर्व बालोद जिले के ग्राम निपानी जिला सहकारी केंद्रीय बैंक में घोटाले का मामला उजागर हुआ। जिसके बाद जांच शुरू हुआ तो पता चला कि 500 से अधिक किसानों के राशि को बैंक के अधिकारी कर्मचारियों ने गबन कर लिया है। जिसके बाद किसानों में हड़कंप मच गया। जिसके बाद मुख्य आरोपी कैशियर अजय भेड़िया गिरफ्तार हो गया है पर किसानों को जल्द रकम वापसी की कोई उम्मीद नजर नहीं आ रही है।

4 से 5 किसानों का ही पैसा उस समय वापस आया पर बाकी कब तक आएगा कुछ पता नहीं है। जब पुलिस ने मामले का खुलासा किया तो उस समय मीडिया को भी यही बताया गया था कि चार-पांच किसानों का ₹18 लाख 30 हजार गबन की पुष्टि हुई है बाकी 500 के करीब आवेदन किसानों का पेंडिंग है। उनके खातों में भी हेराफेरी हुई है। आंकड़ा लाखों-करोड़ों में जा सकता है लेकिन अब तक उन किसानों का पैसा नहीं मिला है। इसी बात को लेकर मुद्दा बनाते हुए भाजपाइयों ने सरकार और बैंक प्रबंधन को घेरना शुरू किया है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related News