Big News: PM मोदी ने कहा- ईडी ने राजनीतिक दलों के खिलाफ सिर्फ 3 प्रतिशत मामले दर्ज किए हैं…

Must Read

नई दिल्ली: देश में इन दिनों प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का एक्शन चर्चा का विषय बना हुआ. ईडी लगातार छापेमारी कर रही और मनी लॉन्ड्रिंग के मामलों में लोगों को गिरफ्तार भी कर रही है.

ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ईडी के काम की सराहना की है. उन्होंने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय की दक्षता में 2014 के बाद सुधार हुआ है. साथ ही उन्होंने सबूत के रूप में आंकड़े प्रदान किए।

पीएम मोदी ने कहा कि ईडी ने 2014 से पहले धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत 1,800 से कम मामले दर्ज किए थे. एनडीए सरकार के सत्ता में आने के बाद यह संख्या बढ़कर 5,000 से अधिक हो गई है.

प्रधान मंत्री ने एशियानेट न्यूज के साथ हुए एक इंटरव्यू में कहा, “यह उनकी बेहतर दक्षता का प्रमाण है.” उन्होंने कहा कि 2014 से पहले और बाद में की गई सर्च की संख्या भी 84 से बढ़कर 7,000 हो गई।

पीएम मोदी ने विपक्षी दलों की ओर से लगाए गए आरोपों की ओर इशारा किया कि केंद्रीय एजेंसियों का इस्तेमाल उन्हें निशाना बनाने के लिए किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि ईडी की ओर से दर्ज भ्रष्टाचार के केवल तीन प्रतिशत मामले राजनीति से जुड़े लोगों के खिलाफ हैं।

उन्होंने विपक्षी दलों की आलोचना पर भी कटाक्ष किया और कहा, ‘अगर कोई संस्था भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए बनाई गई है, अगर वह अपना काम नहीं करती है तो सवाल पूछे जाने चाहिए.

सवाल पूछने का कोई मतलब नहीं है क्योंकि यह अपना काम करती है.’ प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार को जांच एजेंसियों को स्वतंत्र रूप से काम करने देना चाहिए और अपने राजनीतिक हितों के लिए उनके काम में बाधा नहीं डालनी चाहिए।

पीएम मोदी ने कहा कि 2024 के लोकसभा चुनाव महत्वपूर्ण है क्योंकि देश के मतदाताओं ने अनुभव किया है कि तीन दशकों तक अस्थिर सरकारों के बाद एक स्थिर सरकार क्या कर सकती है.

प्रधान मंत्री ने कहा कि ऐसी अस्थिर सरकारों ने देश को बहुत नुकसान पहुंचाया है और चल रहे आम चुनाव महत्वपूर्ण हैं क्योंकि लोग अपने अनुभव के आधार पर वोट डालेंगे. प्रधान मंत्री ने कहा, “मेरा मानना ​​है कि 2024 का चुनाव बीजेपी या मोदी द्वारा नहीं लड़ा जा रहा है. यह लोगों की पहल है।”

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img

More Articles