शुक्रवार, मई 20, 2022

छत्तीसगढ़: खतना के बाद 8 साल के बच्चे की हिंदू धर्म में घर वापसी…

Must Read

छत्तीसगढ़ के जशपुर में 8 साल के बच्चे की हिंदू धर्म में घर वापसी कराई गई है। हिंदू पिता के 8 साल के बच्चे का खतना उसकी मुस्लिम मां और नानी ने कराया था। इसके करीब 2 महीने बाद स्व. दिलीप सिंह जूदेव के पुत्र और भाजपा के प्रदेश मंत्री प्रबल प्रताप सिंह जूदेव ने बच्चे के पांव धोकर उसे हिंदू धर्म में लौटाया। बच्चे के पिता की शिकायत क बाद उसकी मां-नानी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। पिता का आरोप था कि बच्चे के ननिहाल के लोगों ने धोखे से उसका खतना करा दिया था।
दरअसल, सन्ना क्षेत्र के 8 साल के बच्चे के पिता का कहना था कि उसकी पत्नी मुस्लिम है। पत्नी के परिवार वाले बच्चे को मेला दिखाने के बहाने अंबिकापुर ले गए और वहां उसका खतना करा दिया था। पिता दलित समाज का है और उसने हर्राडीपा डुमरटोली निवासी मुस्लिम लड़की से करीब 10 साल पहले लव मैरिज की थी।

बड़ी संख्या में ग्रामीण और आदिवासी समाज के लोग भी पहुंचे

इस मामले में प्रबल प्रताप सिंह जूदेव मंगलवार को सन्ना पहुंच गए। उन्होंने वहां बच्चे के परिवार से संपर्क किया। इसके बाद पूरे विधि विधान के साथ बच्चे की हिंदू धर्म में वापसी करवाई गई। उन्होंने मंत्रोच्चार के बीच बच्चे के पांव धोए। इस दौरान बड़ी संख्या में ग्रामीण और आदिवासी समाज के लोग भी पारंपरिक वेशभूषा में मौके पर पहुंचे थे।

ऐसी गुस्ताखियां माफ करने योग्य नहीं

इसके बाद हुई सभा में प्रबल प्रताप सिंह ने कहा कि दोषियों को न्यायोचित सजा नहीं मिल जाती, तब तक उनका विरोध जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि ऐसी गुस्ताखियां माफ करने योग्य नहीं होती हैं। बच्चे का खतना कर उसका धर्मांतरण घृणित कार्य है। कहा, आइए धर्मांतरण में लिप्त कुधर्मियों का पर्दाफाश करें। सद्भावना के दुश्मनों को साफ करें।

राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग ने दिए थे कार्रवाई के निर्देश

बच्चे के पिता का कहना है कि खतना कराने की जानकारी उसे भी नहीं दी गई। उसे इसका पता करीब 10 दिन पहले ही चला था। इसके बाद समाज के लोगों को बताया गया और फिर ग्रामीणों ने थाने में जमकर हंगामा भी किया था। मामला राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग तक भी पहुंचा। इसके बाद उन्होंने जिला प्रशासन को इस मामलों में कार्रवाई के निर्देश दिए थे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related News