सोशल मीडिया का अत्यधिक उपयोग छात्रों का मानसिक स्वास्थ्य बिगाड़ रहा…

Must Read

एक शोध में सामने आया कि सोशल मीडिया के जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल से छात्र आत्मविश्वास की कमी और मानसिक रोग के शिकार बन रहे हैं और स्मार्टफोन से दूर रहने के डर के कारण वे अवसाद की समस्या से भी जूझ रहे हैं।

शोध में यह भी कहा गया कि सोशल मीडिया के सभी प्रभाव नकारात्मक नहीं होते, लेकिन जो लोग सोशल मीडिया की लत का शिकार हैं उन्हें मदद की जरूरत है। यह शोध चीन, ताइवान और मलेशियाई विश्वविद्यालय के छात्रों पर किया गया। आॅनलाइन सर्वेक्षण में 622 छात्रों ने भाग लिया। पाया गया कि स्मार्टफोन और सोशल मीडिया का जरूरत से ज्यादा उपयोग करने वालों को मानसिक स्वास्थ्य संबंधित बीमारी हो सकती है।

विशेष रूप से, छात्र नोमोफोबिया से जूझ रहे है। नोमोफोबिया से ग्रस्त लोगों के मन में मोबाइल यह डर रहता है कि उनका स्मार्टफोन संचालन योग्य नहीं है। इसके अलावा कई छात्र वजन से संबंधित समस्या को लेकर भी ंिचता से जूझते रहते हैं। वजन को लेकर कुछ लोग उन्हें कमतर आंकते हैं।

ऐसे लोग जो वजन से संबंधित अपराधबोध से जूझ रहे हैं उनमें कम आत्मसम्मान, कम आत्मविश्वास और नकारात्मक भावनाएं जैसे लक्षण पाए जाते हैं। मलेशियाई विश्वविद्यालयों के 380 छात्रों पर किए गए एक अन्य शोध में पाया गया कि सोशल मीडिया के अत्याधिक उपयोग से छात्र अवसाद, घबराहट और तनाव जूझ रहे हैं।

पहले अध्ययन में देखा गया कि जो छात्र प्रतिदिन औसतन लगभग पौने पांच घंटे सोशल मीडिया का उपयोग करते हैं, उनमें 40 फीसदी से अधिक में सोशल मीडिया की लत का जोखिम रहता है। दूसरे अध्ययन में पाया कि जो छात्र प्रतिदिन सोशल मीडिया पर साढ़े चार घंटे बिताते हैं, उसमें से एक तिहाई से अधिक को सोशल मीडिया की लत का जोखिम रहता है।

सोशल मीडिया उपयोग करने वालों में सबसे अधिक युवा हैं और वे ही इसके नकारात्मक प्रभावों के लिहाज से सबसे संवेदनशील हैं। ऐसी भी नहीं है कि सोशल मीडिया का इस्तेमाल हमेशा बुरा ही होता है। सोशल मीडिया के उपयोग के फायदों को लेकर भी बड़े स्तर पर अध्ययन किये गए हैं। विशेष रूप से, सोशल मीडिया भावनाएं और विचार व्यक्त करने की आजादी देता है।

लोग अपने सामाजिक दायरे को बढ़ाने, अकेलेपन को दूर करने और अपनेपन की भावना को बढ़ावा देने के लिए सोशल मीडिया का उपयोग करते हैं। जो लोग किसी वजह से अपने करीबी दोस्तों या परिवार के सदस्यों नहीं मिल पाते हैं उनकी कमी को पूरा करने के लिए सोशल मीडिया काफी कारगर साबित हुआ है।

इस तरह के मामले में ऐसा भी देखा गया कि सोशल मीडिया के उपयोग से उनके मानसिक स्वास्थ्य में सुधार हुआ है। शोध से पता चलता है कि जब सोशल मीडिया का इस्तेमाल जरूरत से ज्यादा किया जाने लगे तो समस्याएं भी उत्पन्न होने लगती हैं और किशोरों के मानसिक स्वास्थ्य पर इसका नकारात्मक प्रभाव हो सकता है।

जब भी कोई सोशल मीडिया के अत्यधित इस्तेमाल की लत से जूझ रहा होता है तो उसके लिए अपनी लालसा को नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img

More Articles