RAIPUR: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्वेच्छानुदान मद से तीन लाख की दी आर्थिक सहायता

Must Read

RAIPUR: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने स्वेच्छानुदान मद से तहसील जगदलपुर निवासी एक हितग्राही को उपचार हेतु तीन लाख रूपए की आर्थिक सहायता राशि स्वीकृति दी है। इसी प्रकार लोक स्वास्थ यांत्रिकी मंत्री गुरू रूद्र कुमार द्वारा उपचार हेतु एक हितग्राही को पांच हजार रूपए की आर्थिक सहायता राशि स्वीकृति दी है। Nawazuddin Siddiqui: जिस दिन दर्शकों को हल्के में लेने लगूंगा, उसी दिन खत्म हो जाऊंगा

RAIPUR:


थिंक-बी का अनोखा बिजनेस इवेंट कॉन्क्लेव ऑन एंटरप्रेन्योरशिप 26 से 28 तक – बस्तर अब सफल होती कहानियों और नवाचार के पैमाने पर खरा उतरता, खुद को सबित करता बस्तर है। बस्तर में जिला प्रशासन द्वारा थिंक-बी की स्थापना की गई है जिससे कि स्थानीय युवकों को उद्यम नवाचार से जोड़ा जा सके और उन्हें स्टार्टअप्स के लिए विशेषज्ञों का मार्गदर्शन उपलब्ध कराया जा सके।

RAIPUR:


इस उद्देश्य की ओर कदम बढ़ाते हुए इनोवेटिव बिजनेस फ्लैगशिप की पहल के तहत, टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज मुंबई, सोसाइटी ऑफ एंटरप्रेन्योरशिप एजुकेटर्स (एसईई) के साथ मिलकर बस्तर में अपनी तरह का एक अनूठा बिजनेस इवेंट कॉन्क्लेव ऑन एंटरप्रेन्योरशिप 26 से 28 अप्रैल को आयोजित कर रहा है।

RAIPUR:


यह कॉन्क्लेव बादल संस्थान परिसर में हो रहा है, जिसका मुख्य उद्देश्य बस्तर के युवाओं में उद्यमिता और स्टार्ट-अप के लिए प्रोत्साहित करना है। बस्तर जिला प्रशासन की पहल के तहत इसे थिंक-बी आयोजित कर रहा है। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने थिंक-बी की शुरुआत की थी ताकि बस्तर के युवाओं को उद्यम नवाचार के लिए अवसर, समर्थन और मार्गदर्शन उपलब्ध कराया जा सके।

RAIPUR:


बस्तर को हमेशा सामाजिक-राजनीतिक मुद्दों और विकास की संभावनाओं से अलग देखा गया है, लेकिन बस्तर जिला प्रशासन और सामाजिक संस्थाओं, संगठनों की लगातार कोशिशों ने एक नए बस्तर को साबित किया है, और बस्तर के बारे में फैली भ्रांतियों को भी खत्म कर दिया है। थिंक-बी आज चर्चा का विषय है। कलेक्टर रजत बंसल की थिंक-बी की पहल ने बस्तर में स्टार्टअप्स और अन्य व्यावसायिक अवसरों को नया जीवन दिया है।

RAIPUR:


यह उन युवाओं के लिए सबसे सुनहरा मौका है, जहां वे अपने विचारों का प्रारूप तैयार कर उसे उद्यम के अवसर में बदल सकते हैं। इस ओर काम करते हुए आज थिंक-बी की वजह से बस्तर में स्टार्टअप्स सफल हो रहे हैं। किशन बघेल ने बस्तर के किसानों, कृषि उत्पादों के पोषक तत्वों का उत्पादक एक घरेलू व्यवसाय, हितेश कुमार ने प्रबंधन, एक उत्पाद प्रबंधन और ब्रांड प्रबंधन एजेंसी, आसिफ खान ने नेचरस्केप, जिसमें वे लगभग विलुप्त हो रही बांस कला के पुनरुद्धार के लिए काम कर रहे हैं। इन जैसे कई स्टार्टअप्स हैं जो बस्तर और पूरे राज्य से सफल व्यवसाय की गाथा बता रहे हैं।

RAIPUR:


थिंक-बी की ओर से कलेक्टर श्री रजत बंसल ने बताया कि 26 से 28 अप्रैल तक बादल परिसर में आयोजित इस कॉन्क्लेव का मुख्य उद्देश्य सफल उद्यमियों के माध्यम से थिंक-बी से जुड़े नव-उद्यमियों को समर्थन और प्रोत्साहित करना है, ताकि हमारे युवा उद्यम नवाचार के इको-सिस्टम के सदस्यों के साथ जुड़कर स्वयं स्टार्टअप्स की स्थापना कर सके।

RAIPUR:


उन्होंने आगे कहा कि हमारे सामने कई चुनौतियां हैं, कोविड -19 के विश्वव्यापी प्रभाव के बाद व्यापार में कई कठिनाइयाँ बढ़ी हैं, लेकिन हमारे युवाओं और नवोन्मेषी उद्यमियों ने कई अवसर बनाए। इन्ही की प्रेरणा से आज युवा उस कठिनाई से बाहर निकलना चाहते हैं और व्यवसाय के लिए उत्साही भी हैं, कॉन्क्लेव के पीछे हमारा यही उद्देश्य है।

RAIPUR:


कॉन्क्लेव में होंगे ये आयोजन कॉन्क्लेव ऑन एंटरप्रेन्योरशिप का उद्घाटन कलेक्टर रजत बंसल करेंगे। कॉन्क्लेव में प्रसिद्ध व्यक्तित्व बतौर वक्ता उभरते अवसरों, उद्यमशीलता और व्यवसाय विकास का समर्थन करने के उद्देश्य से सरकार की पहल पर चर्चा करेंगे और उद्यम के दौरान सामने आने वाली चुनौतियों के समाधान का विमर्श करेंगे।

RAIPUR:


इसमें बस्तर और राज्य के आसपास के स्टार्ट-अप उम्मीदवारों द्वारा मुख्य भाषण, पैनल चर्चा, प्रसिद्ध उद्यमियों से अनुभव सुनना, उनके विचारों का आदान-प्रदान, थिंक-बी इनक्यूबेटीज और छात्र की स्टार्ट-अप की कहानियां, और एक पैनल के लिए निवेशकों का बैच भी शामिल होगा, जिनके द्वारा उद्यमियों के आईडिया पर विचार और निवेश करने की संभावना है।

RAIPUR:


सफल उद्यमियों से मिलेंगे सफलता के मंत्र बस्तर में आयोजित इस कॉन्क्लेव की सबसे खास बात है कि नव उद्यमियों को अपने अपने क्षेत्र में सफल उद्यमियों से सफलता के सूत्र सुनने को मिलेंगे। जिनमें मुख्य वक्ता में ओपिनियन लीडर्स और पर्सपेक्टिव बिल्डर्स में प्रोफेसर शालिनी भारत, टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज मुंबई, भारत की कुलपति और जेंडर इक्वालिटी और कई अन्य सामाजिक मुद्दों पर अपने काम के सुपरिचित श्री हर्ष चौहान, अध्यक्ष राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग (एनसीएसटी) और एक प्रख्यात सामाजिक कार्यकर्ता, प्रोफेसर श्री सत्यजीत मजूमदार,

RAIPUR:


डीन – स्कूल ऑफ मैनेजमेंट एंड लेबर स्टडीज, टीआईएसएस, एक प्रख्यात अकादमिक विद्वान और उद्यमिता और रणनीतिक प्रबंधन जैसे विषयों पर अधिकार, डॉ विपिन कुमार- निदेशक, राष्ट्रीय इनोवेशन फाउंडेशन, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, गांधीनगर जैसे विभिन्न प्रतिष्ठित उद्यमी अपनी बात रखेंगे। उल्लेखनीय है कि कॉन्क्लेव सलाहकारों में सागर दरयानी, डब्ल्यूओडब्ल्यू मोमो के संस्थापक ध्रुव गोयल, स्टील मिंट के संस्थापक मोहित वर्मा, थ्रेडक्राफ्ट इंडिया के संस्थापक अमन जैन, बुनकार टेक्सटाइल्स के संस्थापक शामिल हैं।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

RO 12276/ 120

spot_img

RO 12242/ 175

spot_img

RO- 12172/ 127

spot_img

RO - 12027/130

spot_img

More Articles