रविवार, मई 22, 2022

बिजली का भीषण संकट: पावर प्लांटों में कोयले का स्टॉक खत्म होने के कगार पर…

Must Read

नई दिल्ली. देश में इन दिनों बिजली का भीषण संकट छाया हुआ है. थर्मल पावर प्लांटों में कोयले का स्टॉक खत्म होने के कगार पर है. नई सप्लाई में दिक्कतें आ रही हैं. इससे पर्याप्त बिजली पैदा नहीं हो पा रही है. भीषण गर्मी और आर्थिक गतिविधियों की वजह से डिमांड आसमान पर हैं. ऐसे में लोगों को 10-10 घंटे तक अघोषित बिजली कटौती का सामना कर पड़ रहा है. लेकिन बिजली संकट की सिर्फ यही वजहें नहीं हैं. जानकारों का कहना है कि कंपनियों के पास पैसों की कमी, पहले से समस्या की तरफ ध्यान न देने और कई प्लांटों में मेंटिनेस के चलते कम उत्पादन जैसे कई अन्य कारण भी हैं.

बिजली मंत्रालय के एक अधिकारी ने हिंदुस्तान टाइम्स से कहा कि मौजूदा बिजली संकट का सबसे बड़ा कारण संयंत्रों में कोयले की कमी है. परिवहन की समस्याओं की वजह से कोयला प्लांटों तक नहीं पहुंच पा रहा है. कई राज्यों की सरकारें आरोप लगा रही हैं कि खदानों से प्लांटों तक कोयला लाने के लिए मालगाड़ियों की कमी है. इसे देखते हुए रेल मंत्रालय ने उपाय किए हैं. मालगाड़ियों के लिए रास्ता बनाने के वास्ते करीब 21 जोड़ी यात्री ट्रेनों के 753 फेरों को रद्द कर दिया गया है. इससे अगले महीने तक कोयला लेकर आने वाली मालगाड़ियों को रास्ता साफ मिलेगा.

इसलिए ज्यादा मालगाड़ी लगानी पड़ीं
रेलवे के एक अधिकारी ने दावा किया कि बिजली मंत्रालय ने इस साल रेलवे से 421 रैक मांगे थे, जिसमें से 411 उपलब्ध करा दिए गए. लेकिन असली समस्या डिब्बों की कमी की नहीं, कोयला लदान और उतारने में लगने वाले समय की है. उन्होंने दावा किया कि इसमें 10 से 15 दिन तक लग जा रहे हैं, जिससे मालगाड़ी के डिब्बे खाली नहीं हो पा रहे. हालांकि ऐसी भी खबरें मीडिया में आई हैं कि रेलवे ने 450 रैक मांगे थे, लेकिन मिले सिर्फ 380. बिजली मंत्रालय का दावा है कि कोयला उत्पादन में कमी नहीं है. पिछले साल अक्टूबर-नवंबर की तुलना में इस अप्रैल में 27 फीसदी ज्यादा कोयला उत्पादन हुआ है.

जल्दी गर्मी आने से डिमांड में रिकॉर्ड बढ़ोतरी
इस बार बिजली की डिमांड तेजी से बढ़ी है. पावर सिस्टम ऑपरेशन कोऑपरेशन (Posoco) का 28 अप्रैल का डाटा बताता है कि पिछले साल इसी दिन जहां पीक पावर शॉर्टेज 450 मेगावॉट थी, वो इस साल 23 गुना बढ़कर 10,778 मेगावॉट हो गई है. शुक्रवार को बिजली की डिमांड रिकॉर्ड 2 लाख 7 हजार मेगावॉट थी. मार्च में जहां पूरे देश में बिजली की कमी 14 मिलियन यूनिट थी, वो अप्रैल में 79 मिलियन यूनिट हो गई है. इसकी वजह से पंजाब, यूपी, हरियाणा, राजस्थान, एमपी और आंध्र प्रदेश में 8 से 10 घंटे तक की अघोषित कटौती करनी पड़ रही है. ये कटौती ज्यादातर ग्रामीण इलाकों और छोटे शहरों में हो रही है. अधिकारी बिजली की डिमांड में भीषण बढ़ोतरी की एक वजह इस बार जल्दी गर्मी आने को भी बता रहे हैं. उनका कहना है कि इस बार हीटवेव पहले से कहीं जल्दी शुरू हो गई है, कई जगह पारा 47 डिग्री के करीब है. ऐसे में बिजली की डिमांड बढ़ रही है. पंजाब जैसे कई राज्यों में तो 50 फीसदी तक पीक पावर डिमांड बढ़ी है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Related News