नॉट्रोपिक्स क्या हैं और क्या वे वास्तव में आपको स्मार्ट बनाते हैं?

Must Read

इंसान लंबे समय से एक ऐसे “जादुई अमृत” की खोज कर रहा है, जो उसे अधिक स्मार्ट बना दे और उसके फोकस और याददाश्त में सुधार लाए। इसमें संज्ञानात्मक कार्य को बेहतर बनाने के लिए हजारों साल पहले इस्तेमाल की जाने वाली पारंपरिक चीनी दवा भी शामिल है।

अब हमारे पास नॉट्रोपिक्स हैं, जिन्हें स्मार्ट ड्रग्स, मस्तिष्क बूस्टर या संज्ञानात्मक क्षमता बढ़ाने वाले के रूप में भी जाना जाता है। आप इन गम्मी, च्युइंग गम, गोलियों और त्वचा पैच को आॅनलाइन या सुपरमार्केट, फार्मेसियों या पेट्रोल स्टेशनों से खरीद सकते हैं। आपको किसी नुस्खे या किसी स्वास्थ्य पेशेवर से परामर्श की आवश्यकता नहीं है।

लेकिन क्या नॉट्रोपिक्स वास्तव में आपके मस्तिष्क को बढ़ावा देता है? यहाँ विज्ञान क्या कहता है। नॉट्रोपिक्स क्या हैं और वे कैसे काम करते हैं? रोमानियाई मनोवैज्ञानिक और रसायनज्ञ कॉर्नेलियस ई. गिउर्जिया ने 1970 के दशक की शुरुआत में ऐसे यौगिकों का वर्णन करने के लिए नॉट्रोपिक्स शब्द गढ़ा था जो स्मृति और सीखने को बढ़ावा दे सकते हैं। यह शब्द ग्रीक शब्द नोस (सोच) और ट्रोपिन (गाइड) से आया है।

नॉट्रोपिक्स मस्तिष्क में तंत्रिका कोशिकाओं के बीच संकेतों के संचरण में सुधार, तंत्रिका कोशिकाओं के स्वास्थ्य को बनाए रखने और ऊर्जा उत्पादन में मदद करके काम कर सकता है। कुछ नॉट्रोपिक्स में एंटीआॅक्सीडेंट गुण होते हैं और मुक्त कणों के संचय के कारण मस्तिष्क में तंत्रिका कोशिकाओं को होने वाले नुकसान को कम कर सकते हैं।

लेकिन वे कितने सुरक्षित और प्रभावी हैं? आइए सबसे व्यापक रूप से उपयोग किए जाने वाले चार नॉट्रोपिक्स पर नज़र डालें।

1. कैफीन

आपको यह जानकर आश्चर्य हो सकता है कि कैफीन एक नॉट्रोपिक है। इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि हममें से बहुत से लोग अपने दिन की शुरुआत कॉफी से करते हैं। यह हमारे तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करता है।

कैफीन तेजी से रक्त में अवशोषित हो जाता है और लगभग सभी मानव ऊतकों में वितरित हो जाता है। इसमें मस्तिष्क भी शामिल है जहां यह हमारी सतर्कता, प्रतिक्रिया समय और मनोदशा को बढ़ाता है, और हमें ऐसा महसूस होता है जैसे हमारे पास अधिक ऊर्जा है।

कैफीन के इन प्रभावों के लिए, आपको एक खुराक में 32-300 मिलीग्राम का सेवन करना होगा। यह लगभग दो एस्प्रेसो (300ेॅ खुराक के लिए) के बराबर है।

दुर्भाग्य से बहुत अधिक कैफीन ंिचता जैसे लक्षण और घबराहट के दौरे, नींद में खलल, मतिभ्रम, आंत में गड़बड़ी और हृदय की समस्याएं पैदा कर सकता है।

इसलिए वयस्कों को एक दिन में 400 मिलीग्राम से अधिक कैफीन नहीं पीने की सलाह दी जाती है, जो तीन एस्प्रेसो के बराबर है।

2. एल-थेनाइन

एल-थेनाइन एक पूरक, च्यूइंग गम या पेय पदार्थ के रूप में आता है। यह ग्रीन टी में सबसे आम अमीनो एसिड भी है। पूरक के रूप में एल-थेनाइन का सेवन करने से मस्तिष्क में अल्फा तरंगों का उत्पादन बढ़ सकता है। ये बढ़ी हुई सतर्कता और शांति की धारणा से जुड़े हैं।

हालाँकि, संज्ञानात्मक कार्यप्रणाली पर इसका प्रभाव अभी भी अस्पष्ट है। एक खुराक की कई हफ्तों तक दैनिक खुराक से तुलना करने सहित विभिन्न अध्ययन, और विभिन्न आबादी में, अलग-अलग परिणाम दिखाते हैं।

लेकिन एक अध्ययन में पूरक के रूप में कैफीन के साथ एल-थेनाइन लेने से संज्ञानात्मक प्रदर्शन और सतर्कता में सुधार हुआ। जिन युवा वयस्कों ने एल-थेनाइन (97 मिलीग्राम) और कैफीन (40 मिलीग्राम) का सेवन किया, वे एकल खुराक के बाद कार्यों के बीच अधिक सटीकता से स्विच कर सकते थे, और उन्होंने कहा कि वे अधिक सतर्क थे।

ऊपर दिए गए अध्ययन के समान खुराक में कैफीन के साथ एल-थेनाइन लेने वाले लोगों के एक अन्य अध्ययन में कई संज्ञानात्मक परिणामों में सुधार पाया गया, जिसमें व्याकुलता के प्रति कम संवेदनशील होना भी शामिल है।

यद्यपि शुद्ध एल-थेनाइन को बेहतर प्रभाव के लिए जाना जाता है, फिर भी यह दिखाने के लिए अपेक्षाकृत कम मानव परीक्षण हैं कि यह लंबे समय तक काम करता है या सुरक्षित है। इष्टतम खुराक की जांच करने वाले बड़े और लंबे अध्ययन की भी आवश्यकता है।

3. अश्वगंधा

अश्वगंधा एक पौधे का अर्क है जिसका उपयोग आमतौर पर भारतीय आयुर्वेदिक चिकित्सा में स्मृति और संज्ञानात्मक कार्य में सुधार के लिए किया जाता है।

एक अध्ययन में, 30 दिनों तक प्रतिदिन 225-400 मिलीग्राम लेने से स्वस्थ पुरुषों में संज्ञानात्मक प्रदर्शन में सुधार हुआ। संज्ञानात्मक लचीलेपन (कार्यों को बदलने की क्षमता), दृश्य स्मृति (एक छवि को याद करना), प्रतिक्रिया समय (उत्तेजना पर प्रतिक्रिया) और कार्यकारी कामकाज (नियमों और श्रेणियों को पहचानना और तेजी से निर्णय लेने का प्रबंधन करना) में महत्वपूर्ण सुधार हुए।

मामूली संज्ञानात्मक हानि वाले वृद्धों में भी समान प्रभाव होते हैं। लेकिन हमें अश्वगंधा की खुराक का उपयोग करने वाले अध्ययनों के परिणामों के बारे में सतर्क रहना चाहिए; अध्ययन अपेक्षाकृत छोटे हैं और केवल थोड़े समय के लिए प्रतिभागियों का इलाज किया जाता है।

4. क्रिएटिन

क्रिएटिन एक कार्बनिक यौगिक है जो शरीर में ऊर्जा उत्पन्न करने में शामिल होता है और इसका उपयोग खेल पूरक के रूप में किया जाता है। लेकिन इसका संज्ञानात्मक प्रभाव भी होता है। उपलब्ध साक्ष्यों की समीक्षा में, 66-76 आयु वर्ग के स्वस्थ वयस्कों, जिन्होंने क्रिएटिन की खुराक ली, ने अल्पकालिक स्मृति में सुधार महसूस किया था।

दीर्घकालिक अनुपूरण से भी लाभ हो सकता है। एक अन्य अध्ययन में, कोविड ?के बाद थकान से पीड़ित लोगों ने छह महीने तक प्रतिदिन 4 ग्राम क्रिएटिन लिया और बताया कि वे बेहतर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम थे, और कम थके हुए थे। संज्ञानात्मक प्रदर्शन में सुधार और थकान को कम करने के लिए क्रिएटिन मस्तिष्क के प्रदाह और आॅक्सीडेटिव तनाव को कम कर सकता है।

अध्ययनों में क्रिएटिन की खुराक के दुष्प्रभाव शायद ही कभी बताए गए हैं। लेकिन उनमें वजन बढ़ना, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल गड़बड़ी और यकृत और गुर्दे में परिवर्तन शामिल हैं।

अब कहाँ जाएं?

कैफीन और क्रिएटिन के मस्तिष्क को बढ़ाने वाले प्रभावों के अच्छे सबूत हैं। लेकिन अधिकांश अन्य नॉट्रोपिक्स की प्रभावकारिता, इष्टतम खुराक और सुरक्षा पर जूरी अभी भी अनिश्चित है।

इसलिए जब तक हमारे पास अधिक सबूत न हों, नॉट्रोपिक लेने से पहले अपने स्वास्थ्य पेशेवर से परामर्श लें।
लेकिन रोजाना कॉफी पीने से ज्यादा नुकसान होने की संभावना नहीं है। भगवान का शुक्र है, क्योंकि हममें से कुछ लोगों के लिए यह एक जादुई अमृत है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img

More Articles