रविवार, मई 22, 2022

युवा व नए नवेले नेताओं ने करवाई कांग्रेस की फजीहत

Must Read

कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव में अपने बेहतर से बेहतर प्रदर्शन में कोई कमी नहीं की थी। प्रियंका गाँधी वाड्रा स्वयं उत्तरप्रदेश में चुनाव के शुरुवाती दौर में ही लड़की हूं लड़ सकती हूं के नारे लेकर चुनाव मैदान में जोश और खरोश के साथ उतरी थीं साथ ही महिलाओं के लिए सीटों के आरक्षण में कोई कमी नहीं की थी। जिस प्रकार प्रियंका गाँधी ने उत्तरप्रदेश में जीतोड़ मेहनत की थी। उसके बाद ऐसा परिणाम आना निश्चित तौर पर स्थानीय नेताओ की मिली भगत नजऱ आ रही है।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी उत्तरप्रदेश की कई दौरे कर चुके थे और अपनी जी जान से ताबड़तोड़ मेहनत करने के उपरांत लगातार पूरा समय और तन मन धन मदद के बाद भी पीठ में छुरा भोंकने वालों ने भूपेश बघेल को भी धोखा दिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा चलाये जा रहे योजनाओ की सराहना करते हुए उत्तरप्रदेश में लागु करने की भी घोषणा कर चुके थे।

इन सब परिस्थितियों का आंकलन करने के बाद यही लगता है कि कांग्रेस आलाकमान ने गलत लोगों पर भरोसा कर लिया। उत्तरप्रदेश के सूत्र बताते हैं कि दिल्ली से आकर जो कांग्रेस के मुख्य चुनाव संचालक बने हुए थे उनके द्वारा ज़ेवर एयरपोर्ट के पास जमीन भी खरीदी किये जाने की जानकारी मिल रही है। जमीन खरीदने की जानकारी कांग्रेस के छोटे बड़े कार्यकर्ता मुख्य रूप से दे रहे हैं आरोप ये भी लग रहा है कुछ उच्च जाति के नेतागण यह सब कार्य करने में पहले से ही माहिर है

उत्तरप्रदेश में जातिगत समीकरण को देखते हुए उदित राज और तारिक अनवर जैसे नेताओ का भी उपयोग वहां करना था यह भी एक गंभीर चूक माना जा रहा है। प्रियंका गाँधी ने जिस प्रकार महिलाओं को आगे बढ़ाते हुए मनोवैज्ञानिक इंप्रैशन जमाने का दांव खेल दिया था वह सटीक था लेकिन नए नवेले नेताओं ने सब मेहनत पर पानी फेर दिया। नए नवेले कांग्रेस नेताओं के साथ में भी ऐसी ही विडम्बना चरितार्थ हुई। वे हकीकत को जानते थे लेकिन भावनात्मक घटाटोप के चलते झूठी उम्मीद की मृगतृष्णा पर विश्वास करने को मजबूर हो रहे थे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Related News