BIG NEWS: PM मोदी ने इसरो के नये प्रक्षेपण परिसर का शिलान्यास, कई परियोजनाओं का उद्घाटन किया

Must Read

तमिलनाडु: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को यहां लगभग 17,300 करोड़ रुपये की नयी परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। साथ ही संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की पूर्ववर्ती सरकार पर तमिलनाडु की उन्नति के लिए कोई काम नहीं करने का आरोप लगाया।

परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घघाटन करते हुए मोदी ने कहा कि राज्य ‘प्रगति का नया अध्याय’ लिख रहा है और केंद्र के प्रयासों के कारण तमिलनाडु आधुनिकता की ‘नयी ऊंचाइयों को छू’ रहा है। सत्तारूढ़ द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) सरकार पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए मोदी ने आरोप लगाया कि समाचार पत्र और टीवी चैनल केंद्र सरकार के प्रयासों को दिखाना चाहते हैं लेकिन ‘‘सरकार उन्हें ऐसा करने की अनुमति तक नहीं दे रही।’’ मोदी ने कहा, ‘‘लेकिन हम विकास कार्यों से पीछे नहीं हटेंगे।’’

द्रमुक की लोकसभा सदस्य कनिमोइ और तमिलनाडु के लोक निर्माण मंत्री ईवी वेलु मंच पर मौजूद थे। तमिलनाडु के तूतीकोरिन में भारत के पहले स्वदेशी हरित हाइड्रोजन जलमार्ग पोत को हरी झंडी दिखाते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के लगातार प्रयासों के कारण परिवहन बढ़ने से तमिलनाडु में ‘जीवन में सुगमता’ आई है।

मोदी ने कहा कि नयी परियोजनाएं विकसित भारत की रूपरेखा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैं जो कुछ कह रहा हूं वह किसी राजनीतिक विचारधारा या अपनी विचारधारा के मुताबिक नहीं बल्कि विकास के लिए है।’’

विकास परियोजनाओं को शुरू करने में देरी के लिए द्रमुक-कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, ‘‘मैं तमिलनाडु और पूरे देश की जनता को सच्चाई बताना चाहता हूं। सच कड़वा होता लेकिन इसे बताये जाने की जरूरत है…ये सभी परियोजनाएं, जिन्हें मैं लेकर आया हूं, दशकों से स्थानीय लोगों की मांग रही हैं।’’

द्रमुक पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि संप्रग शासन के दौरान तमिलनाडु की सत्तारूढ़ पार्टी उसकी साझेदार थी। मोदी ने कहा,‘‘ उन्हें (द्रमुक और कांग्रेस को) आपके विकास की ंिचता नहीं थी।’’ उन्होंने अपने संदर्भ में कहा कि विकास की सभी पहल ‘सेवक’ ने की।

उन्होंने कहा, ‘‘पिछले 10 वर्षों में, तमिलनाडु में 1,300 किलोमीटर तक रेल बुनियादी ढांचे का विकास किया गया है। साथ ही, इसी अवधि में 2,000 किलोमीटर रेलवे लाइन का विद्युतीकरण किया गया है।ह्व मोदी ने कहा कि रेल यात्रियों की सुविधा के लिए सैकड़ों फ्लाईओवर और अंडरपास विकसित किए गए हैं। उन्होंने कहा कि साथ ही रेलवे स्टेशनों पर सभी आधुनिक सुविधाएं सुनिश्चित की गई हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि रेलवे, राजमार्ग और जलमार्ग भिन्न-भिन्न लग सकते हैं, लेकिन सभी विभागों का एक ही उद्देश्य है बेहतर संपर्क, तमिलनाडु में उद्योगों के लिए सुविधाएं सुनिश्चित करना और बेहतर अवसर प्रदान करना।
मोदी ने कहा, ‘‘भारत के पहले स्वदेशी हरित हाइड्रोजन जलमार्ग पोत की आज शुरुआत हो गई है।

यह पोत जल्द ही काशी की गंगा नदी में भी संचालित होगा। यह, एक तरह से, तमिलनाडु के लोगों की ओर से काशी के लोगों के लिए एक बड़ा उपहार है।’’ ‘विकसित भारत’ के निर्माण के मिशन पर उन्होंने कहा कि इस प्रयास में ‘विकसित तमिलनाडु’ की बहुत बड़ी भूमिका है।

वीओ चिदंबरनार बंदरगाह के लिए बाहरी हार्बर कंटेनर र्टिमनल की आधारशिला रखने के बाद, मोदी ने कहा कि इस परियोजना में लगभग 7,000 करोड़ रुपये की राशि का निवेश किया जायेगा। मोदी ने कहा कि दो साल पहले उन्होंने चिदंबरनार बंदरगाह की क्षमता के विस्तार के लिए कई परियोजनाएं शुरू की थीं और इसे नौवहन का एक प्रमुख केंद्र बनाने का अपना वादा किया था। उन्होंने कहा, ‘‘यह गारंटी आज पूरी हो रही है।’’

प्रधानमंत्री मोदी ने थूथुकुडी के निकट कुलसेकरापट्टिनम में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के नये प्रक्षेपण परिसर का शिलान्यास किया, जिसकी लागत लगभग 986 करोड़ रुपये है और इसके बनकर तैयार होने पर यहां से प्रतिवर्ष 24 प्रक्षेपण किये जा सकेंगे।

इसरो के इस नये परिसर में ‘मोबाइल लॉन्च स्ट्रक्चर’ (एमएलएस) तथा 35 केन्द्र शामिल हैं। इससे अंतरिक्ष अन्वेषण क्षमताओं को बढ़ाने में मदद मिलेगी। उन्होंने तमिलनाडु में रेल परियोजनाएं भी राष्ट्र को सर्मिपत कीं। इसमें वांची मनियाच्ची-नागरकोइल रेल लाइन का दोहरीकरण शामिल है। प्रधानमंत्री ने तमिलनाडु में लगभग 4,586 करोड़ रुपये की कुल लागत से विकसित चार सड़क परियोजनाओं को सर्मिपत किया।

प्रधानमंत्री ने अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ के एक एपिसोड के दौरान देश के प्रमुख प्रकाश स्तंभों को पर्यटन स्थलों के रूप में विकसित करने के अपने सुझाव को याद किया और आज 10 राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों में 75 प्रकाश स्तंभों में पर्यटक सुविधाएं दिये जाने पर गर्व व्यक्त किया।

उन्होंने विश्वास जताया कि ये 75 स्थान आने वाले समय में बहुत बड़े पर्यटन केंद्र बनेंगे। उन्होंने कहा कि उन्होंने लोगों को एक गारंटी दी है जो इस बात का आश्वासन है कि आगामी चुनावों के बाद जब देश उन्हें तीसरी बार सेवा करने का मौका देगा तो वह नए उत्साह के साथ उनकी सेवा करेंगे। मोदी ने कहा, ‘‘मैं तमिलनाडु के लोगों के प्यार, उत्साह और उमंग को व्यर्थ नहीं जाने दूंगा। आपके इस प्यार और आशीर्वाद को मैं विकास के माध्यम से ब्याज समेत वापस करुंगा।’’

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img

More Articles