अंधविश्वास! : गुरु की सिद्धि हासिल करने हत्या…खून भी पीया…रायपुर से गिरफ्तार

Must Read

धमतरी : छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले से एक दिल ढलने वाली जानकरी सामने आई है दरअसल यहां एक युवक ने अपने ही गुरू की हत्या कर दी और उसका खून पी लिया। आरोपी ने इसलिए ऐसा किया, क्योंकि उसे किसी दूसरे साधु ने बताया था कि ऐसा करने से उसे अपनी गुरु की सारी सिद्धि हासिल हो जाएगी। आरोपी ने हत्या कर शव को नदी किनारे छोड़ दिया था। मामला जिले के करेली बड़ी चौकी क्षेत्र का है।

मिली जानकरी के मुताबिक एक दिन पहले ही अधेड़ उम्र के शख्स की लाश मिली थी। आस-पास के लोगों ने उसका शव देखा था। जिसके बाद से ही पुलिस इस केस में जांच कर रही थी। अब पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया है। आरोपी रौनक छाबड़ा ने बताया कि गरियाबंद जिले के नवापारा के रहने वाले 50 वर्षीय बसंत साहू की हत्या उसने किसी साधु के कहने पर की थी। वह बसंत के साथ ही तंत्र-मंत्र सीखता था। आरोपी उसे गुरु भी मानता था।

यह भी पढ़ें :-उत्तर बस्तर कांकेर : पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति हेतु ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित

खबर के मुताबिक एसपी प्रशांत ठाकुर ने बताया कि ये हत्या तंत्र-मंत्र के चक्कर में हुई है। उन्होंने बताया कि आरोपी ने पूछताछ में अपना गुनाह कबूल कर लिया है। रौनक छाबड़ा ने बताया कि उसकी रुचि तांत्रिक विद्या में थी। आरोपी ने सिद्धि प्राप्त करने के लिए किसी साधु के कहने पर अपने ही गुरु बसंत साहू को मारकर उसका खून पिया और सबूत नष्ट करने के लिए उसे जलाने की कोशिश की। हालांकि शव पूरी तरह से नहीं जला। राहगीरों को जब इसकी जानकारी मिली, तो अधजली लाश को पुलिस ने पोस्टमॉर्टम के लिए अस्पताल भिजवाया।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, एक दिन पहले करेली बड़ी चौकी के लोमश ऋषि आश्रम पैरी नदी के किनारे नवापारा निवासी बसंत साहू की अधजली लाश मिली थी। सबूत के आधार पर रौनक छाबड़ा को गिरफ्तार कर लिया गया। रौनक ने तांत्रिक सिद्धि के लिए बसंत साहू को अपना गुरु बनाया था। दोनों काफी दिनों से तांत्रिक सिद्धियां पाने के लिए पूजा-पाठ और कई क्रियाएं कर रहे थे।

यह भी पढ़ें :-जशपुरिया स्ट्राबेरी से महकेगा छत्तीसगढ़

वहीं 31 जनवरी की रात भी दोनों बुडेनी गांव के सुनसान इलाके में पहुंचे। यह इलाका श्मशान घाट के पास ही है। दोनों ने शराब पी और तांत्रिक क्रियाओं में जुट गए, लेकिन 31 जनवरी को रौनक किसी और इरादे से पहुंचा था। दरअसल रौनक को किसी साधु ने यह बताया था कि अगर अपने गुरु के खून को पी जाओ, तो उसकी सारी सिद्धियां एक बार में ही हासिल हो जाती हैं। इसलिए रौनक छाबड़ा ने सिद्धि पाने के लिए गुरु की हत्या की योजना बनाई।

इस योजना को उसने 31 जनवरी की रात अंजाम दे दिया। उसने अपने तंत्र गुरु बसंत साहू के सिर पर डंडे से वार किया। तड़पते हुए बसंत साहू के खून को आरोपी ने मिट्टी के दीए में बड़ी ही निर्ममता से पीया। इसके बाद उसकी हत्या कर सारे सबूत नष्ट करने के इरादे से उसने बसंत साहू के शव को जलाने की कोशिश की और वहां से चला गया।

यह भी पढ़ें :-प्रदेश की सांस्कृतिक धरोहरों को सहेजने केंद्र व राज्य सरकार करेंगे संयुक्त प्रयास

अगले दिन आस-पास के लोगों ने ही बसंत की लाश देखी थी। इस बाद पुलिस को सूचना दी गई। सूचना मिलने पर पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। फिर जांच करने पर पता चला किआखिरी बार बसंत साहू रौनक छाबड़ा के साथ नजर आया। पुलिस ने बिना देर किए ही रौनक का पता-ठिकाना मालूम किया और उसे रायपुर से गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि आरोपी ने अब तक उस साधु के बारे में जानकारी नहीं दी है। जिसके कहने पर उसने अपने गुरु का खून किया है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img

More Articles