Chhattisgarh: दुर्ग जिला में डायरिया के 7 नए मरीज मिले…

Must Read

दुर्ग: ग्राम बोड़ेगांव (ननकट्ठी) में उल्टी-दस्त की आऊटब्रेक की सूचना प्राप्त होने पर नियमित रूप से सक्रिय सर्वेलेंस किया जा रहा है। जिला मुख्यालय से डॉ. जे.पी. मेश्राम, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, दुर्ग के साथ डॉ. एस.के. मेश्राम, जिला स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अधिकारी दुर्ग, डॉ. सी.बी.एस. बंजारे, जिला सर्विलेंस अधिकारी, दुर्ग रितीका मसीह, जिला एपिडेमियोलॉजिस्ट, राजेन्द्र वर्मा, विकासखंड कार्यक्रम प्रबंधक, निकुम, संदीप वर्मा, आर.एम.ए., टेमेन्द्र देशमुख एवं महेश्वरी बघेल, आरएच. ओ.. सुपरवाईजर व स्वास्थ्य कार्यकर्ता सहित काम्बेट टीम के अन्य सदस्यों द्वारा संक्रमित क्षेत्र का दौरा किया गया।

16 मई 2024 को उक्त संक्रमित क्षेत्र में उल्टी-दस्त के 07 नये मरीज मिले जिन्हें दस्त की शिकायत है। 02 डायरिया व दस्त के मरीज को उपचार हेतु प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र ननकट्ठी रिफर किया गया। जिनमें से एक पुरूष 50 वर्ष एवं एक महिला 38 वर्ष को चिकित्सकीय उपचार दिया जा रहा है।

1 महिला 42 वर्ष जिनका श्री शंकराचार्य मेडिकल कॉलेज, जुनवानी में चिकित्सकीय उपचार करा रहे हैं, उनकी स्थिति सामान्य है। 14 मई 2024 से आज दिनाँक तक ग्राम बोड़ेगांव में कुल 47 प्रकरण में 03 मरीज विभिन्न अस्पतालों में चिकित्सकीय उपचार ले रहे हैं व अन्य 44 मरीजों का घर पर चिकित्सकीय उपचार चल रहा है, व स्वास्थ्य लाभ ले रहे है। काम्बेट टीम व मितानिन द्वारा संक्रमित क्षेत्र का सर्वे किया जा चुका है।

मितानिनों एवं स्वास्थ्य कार्यकर्ता को प्रभावित क्षेत्र में सतत् निगरानी किये जाने निर्देशित किया गया है एवं 24×7 स्वास्थ्य केन्द्रों में ड्यूटी लगायी गयी है। कुल 92 घरों का भ्रमण किया गया 180 ओ.आर.एस. पैकेट, 210 जिंक, मैट्रोनिडाजोल के 134 टेब. वितरित किये गये है एवं ग्राम पंचायत में सरपंच की सहायता से गांव में उल्टी-दस्त होने पर सूचना देने की मूनादी करायी जा रही है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, दुर्ग द्वारा मैदानी स्तर पर सरपंच, ग्राम पंचायत बोड़ेगांव व रवेलीडीह तथा चिकित्सा अधिकारी, आर.एम.ए., विकासखंड कार्यकम प्रबंधक, एरिया सुपरवाईजर, सी.एच.ओ., एन.एन.एम., स्टाफ नर्स, मितानिन एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की उपस्थिति में बैठक लिया जाकर निर्देशित किया गया कि प्रभावित क्षेत्र में पर्याप्त दवाईयों का भंडारण रखा जावे एवं गंभीर मरीजों को तत्काल हायर सेंटर रिफर किया जाए।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img

More Articles