Chhattisgarh: रौतिया समाज का भव्य सम्मेलन राजनीति के पेंच में फंसा, अब विष्णुदेव साय और गणेशराम भगत का नाम हुआ गायब

Must Read

जशपुर: आगामी 1 अक्टूबर को कुनकुरी विधानसभा के कंडोरा गाँव मे होने वाले रौतिया समाज का भव्य सम्मेलन राजनीति के पेंच में फंसता हुआ दिख रहा है। दरअसल रौतिया समाज के इस भव्य सम्मेलन में भाजपा के प्रदेश प्रभारी ओम माथुर, प्रदेश के पूर्व सीएम डॉ रमन सिंह, पूर्व वन मंत्री महेश गागड़ा और रायगढ़ संसदीय क्षेत्र के सांसद गोमती साय को आमंत्रित किया गया है।

अब राजनीति किस बात पर शुरू हुई यह बताने से पहले यह बता दें कि रौतिया समाज के लोग जनजातीय समाज में शामिल होने के लिए सरकार से कई सालों से माँग कर रहे हैं ।अभी विगत 2 माह पहले जशपुर के लोरो में इनका बड़ा आंदोलन देखने को मिला जहां हजारों की संख्या में रौतिया समाज के लोग एकत्रित होकर आंदोलन क़ा बड़ा आगाज किया गया था।

रौतिया समाज के इस आंदोलन में जिले के सभी भाजपा नेताओ ने हिस्सा लिया था और प्रदेश की सरकार को जमकर कोसा था लेकिन इस बार जब आगामी 1 अक्टूबर को फिर से जशपुर में रौतिया समाज का भव्य सम्मेलन होने जा रहा है इस आयोजन में सांसद गोमती साय और भाजपा के सह संगठन मंत्री पवन साय के अलावे किसी भी जिले के भाजपा नेताओं को आमंत्रित नहीं किया गया। इसमे भी खाश बात ये कि कुनकुरी विधानसभा में हो रहे इस आयोजन में कुनकुरी सीट के प्रबल दावेदार और भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य विष्णुदेव साय तक को आमंत्रित नहीं किया गया।

समाज मे पम्पलेट में विष्णुदेव साय का नाम नहीं होने को लेकर कई तरह की चर्चाएं शुरू हो गयी हैं।चर्चा होना लाजमी इसलिए भी है क्योंकि विगत माह जब रौतिया समाज का लोरो में महा सम्मेलन हुआ था तब विष्णुदेव साय को काफी प्रमुखता से आमंत्रित किया गया था लेकिन अब जब चुनाव नजदीक है और कुनकुरी से विष्णुदेव साय का नाम चुनाव लड़ने वालों में सबसे ऊपर है ऐसे में उन्हें इस आयोजन में नहीं बुलाया जाना अपने आप मे एक बड़ा सवाल है। हांलाकि इस आयोजन में जनजातीय समुदाय के बड़े नेता गणेश राम भगत को भी नहीं बुलाया गया है। ऐस में सत्ताधारी दल कांग्रेस को एक बार फिर से भाजपा को आदिवासी मुद्दे पर घेरने का मौका मिल जाएगा।

इस आयोजन में इन नेताओं को आमंत्रित नहीं किये जाने के कारण जो भी हो लेकिन कांग्रेस इसे भाजपा की आपसी गुटबाजी से ही जोड़कर देखने जा रही है। हांलाकि इस बारे में जब रौतिया समाज के अध्यक्ष ओम प्रकाश साय से बात की गई तो उन्होंने ज्यादा कुछ बताने के बजाय सिर्फ इतना बताया कि विष्णुदेव साय को आमंत्रित नहीं किया गया है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img

More Articles