Gujarat : गेम जोन अग्निकांड में 32 लोगों की मौत….मृतकों के परिजनों को 4 लाख का मुआवजा

Must Read

Gujarat : गुजरात के राजकोट में शनिवार को एक गेमजोन में भीषण आग लगने के कारण 32 लोगों की मौत हो गई. यह घटना राजकोट के टीआरपी गेमिंग जोन में हुई है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शनिवार को गेमिंग जोन में 99 रुपये की टिकट वाली स्कीम चल रही थी.

इस वजह से गेमिंग जोन में कई लोग मौजूद थे. आग लगने के कारणों की जानकारी प्राप्त नहीं हो पाई है लेकिन शुरुआती जांच में सामने आया है कि शॉर्ट सर्किट के कारण आग लगी थी. इस घटना में मरने वाले 32 लोगों में 12 बच्चे भी शामिल है.

इसे भी पढ़ें :-रायपुर : ‘स्कूल रेडीनेस‘ कार्यक्रम के तहत शिक्षकों का 10 दिवसीय वर्चुअल प्रशिक्षण संपन्न

रिपोर्ट्स के मुताबिक गेमिंग जोन में जिस वक्त यह हादसा हुआ उस वक्त वहां कई लोग मौजूद थे. ऐसा इसलिए क्योंकि शनिवार का दिन था और साथ ही गेमिंग जोन में 99 रुपये की टिकट वाली स्कीम भी चल रही थी. माना जा रहा है कि गेमिंग जोन संचालक की लापरवाही के कारण यह हादसा हुआ है. मामले में पुलिस ने 4 लोगों को हिरासत में भी ले लिया है. इसमें टीआरपी गेम जोन के मालिक युवराज सिंह सोलंकी, उनके पार्टनर प्रकाश जैन, मैनेजर नितिन जैन और एक अन्य शख्स राहुल राठौड़ शामिल हैं.

सूत्रों के अनुसार, टीआरपी गेमिंग जोन में बड़ी मात्रा में ज्वलनशील पदार्थ रखे हुए थे और साथ ही उनके पास फायर एनओसी भी नहीं थी. रिपोर्ट के अनुसार, वहां कई हजार लीटर पेट्रोल और डीजल रखा हुआ था.

इसे भी पढ़ें :-परिवार संग मतदान करने के बाद बोले केजरीवाल : मैंने तानाशाही के खिलाफ वोट किया..

इतना ही नहीं, एंट्री और एग्जिट के लिए भी केवल एक ही गेट था. इस वजह से आग लगने के बाद लोग वहां से आसानी से निकल पाने में नाकामयाब रहे और वहीं फंसे रहने के कारण उनकी मौत हो गई.

इस बीच, गुजरात के पुलिस महानिदेशक ने पुलिस आयुक्तों और जिला पुलिस अधीक्षकों को राज्य के सभी गेम जोन्स का निरीक्षण करने और बगैर फायर सेफ्टी की अनुमति के चलने वाले गेम जोन्स को तत्काल बंद करने का निर्देश दिए गए हैं.

राजकोट सिविल हॉस्पिटल के पोस्टमार्टम हाउस में 32 शव लाए गए हैं. इन सभी का पोस्टमार्टम किया जा रहा है और साथ ही डीएनए टेस्ट भी किया जा रहा है, जिससे उनकी पहचान हो सके. मृतकों के परिजनों का भी डीएनए मिलान के लिए नमूना लेने का काम चल रहा है.

इसे भी पढ़ें :-आदिवासियों की जान माल की कीमत पर कोई भी कार्यवाही समझौता कांग्रेस को मंजूर नहीं

राजकोट प्रशासन ने हताहत लोगों के परिजनों की सहायता के लिए फोन नंबर भी जारी किए हैं. प्रशासन ने कहा कि गेम जोन में आग लगने की घटना के संबंध में पूछताछ के लिए सिविल अस्पताल आने वाले लोगों से अनुरोध है कि यदि उन्हें किसी भी जानकारी की आवश्यकता हो तो फोन नंबर +917698983267 और +919978913796 पर संपर्क करें.

टीआरपी गेमिंग जोन में हुए हादसे में मरने वालों के परिजनों को सरकार द्वारा 4 लाख रुपये का मुआवजा दिए जाने का ऐलान किया गया है. साथ ही घायलों के परिजनों को सरकार द्वारा 50 हजार रुपये का मुआवजा दिया जाएगा.

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img

More Articles