कटघोरा: नगर पालिका एल्डरमैन अशफाक अली ने जनहित के मुद्दे पर कलेक्टर को लिखा पत्र, आखिर क्या है पूरा मामला..

Must Read

कटघोरा: कटघोरा में इन दिनों एक मुद्दा जमकर गरमाया हुआ है जहाँ इस मुद्दे पर स्थानीय प्रशासन से बात नही तो अब यह मुद्दा सीधे कलेक्टर तक जा पहुँचा है।बता दे कि इस मुद्दे की कमान कटघोरा नगर पालिका के एल्डरमैन अशफाक अली संभाल रहे रहे,जहाँ इन्होंने पार्षदों के तत्वावधान में इस मुद्दे को पूरे पुरजोर तरीके से उठाया है। आपको बता दे कि कटघोरा बस स्टैंड के मुख्य द्वार पर कटघोरा की धरोहर मुरली होटल संचालित है जहाँ होटल के सामने बेतरतीब ढंग से वाहनों की पार्किंग की जाती है लिहाजा बस स्टैंड आने जाने वाले राहगीरों व बसों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है,कई दफा जाम जैसी स्थिति निर्मित हो जाती है, इतना ही नही इस स्थान पर पूर्व में कई जानलेवा घटनाएं भी घट चुकी है लेकिन स्थानीय प्रशासन आज पर्यन्त तक इसका निराकरण नही कर पाया है आज भी लोग यहाँ जान हथेली पर रख सफर करने को मजबूर हैं।बहरहाल कटघोरा नगर पालिका परिषद के एल्डरमैन अशफाक अली ने इस मुद्दे को जमकर तूल दे दिया है जो एक तरह से जनहितकारी होने के साथ नगर की व्यवस्थाओं से जुड़ा मुद्दा है।

कटघोरा बस स्टैंड की बात करे तो यह स्थान संकीर्ण होने के साथ बेहद भीड़भाड़ वाला क्षेत्र है जहाँ रोजाना सैकड़ो वाहनों की आवाजाही व यात्रियों का तांता लगा रहता है जिस कारण इस स्थान पर भारी दबाव रहता है।इस बीच बस स्टैंड में लक्जरी बसों का भी आना जाना होता है जिनके लिए पर्याप्त मात्रा में जगह का सुनिश्चित होना जरूरी होता है।वही बस स्टैंड के दोनों प्रवेश द्वारों पर बेतरतीब ढंग से वाहनों की पार्किंग किये जाने से अक्सर बसों के आवाजाही में व्यवधान उतपन्न होने से जाम जैसे हालात निर्मित हो जाते हैं।इस सबके बीच मुरली होटल के पास अक्सर हालात खराब रहते हैं।दसअसल कटघोरा के अधिकांश व्यापारियों के पास निजी पार्किंग व्यवस्था नही है लिहाजा वाहन चालक सड़क पर ही वाहन पार्क कर देते हैं जिस कारण ऐसी स्थिति निर्मित होती है, अब ऐसे हालातो में सीधे तौर पर केवल मुरली होटल को जिम्मेदार नही ठहराया जा सकता ऐसे हालात कटघोरा के मुख्यमार्ग पर बहुतायत स्थानों पर देखे जा सकते हैं जहाँ बेतरतीब ढंग से वाहन खड़े मिल जाएंगे, जिस वजह से कटघोरा के मुख्यमार्ग में अक्सर जाम लगा रहता है।कई बार जाम की वजह से घटनाएं भी सामने आ चुकी है।

अगर इन हालातों की बात करे तो इसके पीछे कटघोरा में पार्किंग व्यवस्था नही होना माना जा सकता है।यह नगर पालिका परिषद की नाकामी है जो नगर में वाहनों की पार्किंग व्यवस्था सुनिश्चित करा पाने में असमर्थ है।मजे की बात यह है कि अगर कोई जिम्मेदार व्यक्ति नगर पालिका परिषद के अधिकारियों को उनकी जिम्मेदारियों का अहसास दिलाना चाहे तो ये भैस बन जाते हैं जिनके आगे बासुरी बजाने का कोई औचित्य नही होता।खैर इस दफा एल्डरमैन अशफाक अली ने कलेक्टर को पत्र लिख गुहार लगाई है अब जिलाधीश इस समस्या पर किस तरह की कार्यवाही कर जनता को राहत प्रदान करेंगे यह बात अहम मानी जा सकती है।

कही ये राजनैतिक हथकंडे तो नही…

वही इस मुद्दे को लेकर कई तरह की बाते चोक चौराहों पर गुलाटी मार रही है कुछ लोग इसे राजनैतिक हथकंडा कह रहे हैं तो कोई इसे व्यक्तिगत बताने का प्रयास कर रहे हैं हालांकि अशफाक अली द्वारा उठाया जा रहा मुद्दा काबिले तारीफ है जिन्होंने जनमानस के सरोकार की बात को शासन तक पहुचाने का अहम कार्य किया है,वही नगर के बड़े बड़े नेताओं को ऐसे मुद्दे नजर नही आते जो सीधे लोगो की सुरक्षा से ताल्लुक रखते हैं अब तो नगर की जनता भी समझ चुकी है यह अंधेर नगरी चौपट राजा है यहां खुद की सुरक्षा स्वयं को ही करनी है।

मुरली होटल के संचालक मुरली साहू राजनीति से ताल्लुक रखते हैं और वर्तमान में पार्षद भी है वही एल्डरमैन अशफाक अली भी राजनीति से जुड़े हैं सूत्र तो ये भी बताते हैं कि वर्ष 2018-19 के चुनाव बाद से कटघोरा की स्थानीय राजनीति में बड़ा उठा पटक देखने को मिला था जहाँ राजैनितक पार्टियां नगर अध्यक्ष बनाने के लिए विभिन्न पैतरों का सहारा ले रहे थे,वही अनुमान लगाए जा रहे हैं कही बस स्टैंड का ये मुद्दा राजैनितक मुद्दे से जुड़ा तो नही जिसमे नेता अपनी रोटियां सेंक स्वार्थ सिद्धि की फिराक में जनता के मुद्दे को आड़े हाथों ले रहे।खैर ये तो जनता की जुबाने है जो अक्सर फिसल जाया करती है भले मुद्दा राजैनितक हो सकता है लेकिन ये सीधे जनता की सुरक्षा से सरोकार रखता है ये हमे नही भूलना चाहिए।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img

More Articles