ओपी जिंदल विश्वविद्यालय के दो-दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन (ISMS-2023) का आयोजन 23 दिसंबर से

Must Read

होरी जैसवाल 

रायगढ़: ओपी जिंदल विश्वविद्यालय , रायगढ़ द्वारा “इन्फॉर्मेशन सिस्टम्स एंड मैनेजमेंट साइंस” विषय पर दो-दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन (ISMS2023) का आयोजन 23 दिसंबर से 24 दिसंबर. 2023 के दौरान किया जायेगा। ओपीजेयू के कंप्यूटर साइंस एन्ड इंजीनियरिंग विभाग द्वारा फैकल्टी ऑफ़ आईसीटी, यूनिवर्सिटी ऑफ़ माल्टा के साथ मिलकर; एवं एनआईटी, रायपुर तथा सेंटर फॉर ग्लोबल मैनेजमेंट एम्ल्योन बिजिनेस स्कूल के सहयोग से आयोजित इस अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन हाइब्रिड (फिजिकल एवं वर्चुअल दोनों ) माध्यम से किया जाएगा।

सम्मेलन के संयोजक डॉ. भूपेश देवांगन ने बताया की सूचना प्रणाली और प्रबंधन विज्ञान (आईएसएमएस) 2023 पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन शोधकर्ताओं और अकादमिक लोगों के लिए एक मंच है जो समस्या-समाधान, निर्णय की सुविधा के लिए डेटा या ज्ञान अधिग्रहण, अवलोकन, प्रतिनिधित्व, प्रसंस्करण, विज़ुअलाइज़ेशन, साझाकरण और प्रबंधन में नई चुनौतियों के समाधान के लिए चर्चा करने का अवसर प्रदान करेगा।

इसे भी पढ़ें :-Entertainment: फिल्म कंगुवा 38 भाषाओं में होगी रिलीज…

सम्मेलन में सूचना प्रणाली और प्रबंधन विज्ञान से संबंधित व्यावहारिक या सैद्धांतिक, विशेष या अंतःविषय प्रकृति के मूल शोध या व्यावहारिक पत्रों, अत्याधुनिक समीक्षाओं और केस अध्ययनों को एक -दूसरे के साथ साझा किया जाएगा।

विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. आर. डी. पाटीदार ने कहा की “इन्फॉर्मेशन सिस्टम्स एंड मैनेजमेंट साइंस” विषय पर आधारित यह सम्मेलन जिसमे इन्फॉर्मेशन सिस्टम्स से सम्बंधित और इंटर-डिसिप्लिनरी विषयों मे शोध एवं विकास से संबन्धित दुनिया भर के शिक्षाविद, शोधकर्ता, और अन्य सभी संबंधित एकत्रित होकर विभिन्न मुद्दों पर विचार-विमर्श एवं चिंतन कर विकसित भारत की संकल्पना को गढ़ने एवं सतत विकास हेतु सार्थक योजनाओं के निर्माण की पहल करने का प्रयास करेंगे, अपने आप में एक अद्वितीय सम्मलेन होगा।

इसे भी पढ़ें :-भारत में कोरोना वायरस के नए सब वेरिंएट के बढ़ते मामलों के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किया बयान

इस सम्मेलन में भारत सहित विभिन्न देशों से आये 418 में से स्वीकृत 118 से अधिक तकनीकी पेपर हाइब्रिड मोड में प्रस्तुत किए जाएंगे। इस दो-दिवसीय सम्मेलन मे उदघाटन एवं समापन सत्रों के आलावा कीनोट एवं तकनीकी-सत्र आयोजित किए जाएंगे। सम्मेलन का उद्घाटन समारोह 23 दिसंबर को आईआईटी, भिलाई के सभागार में पूर्वान्ह 11:30 बजे आरम्भ होगा।

सम्मलेन का उद्घाटन आईआईटी, भिलाई के निदेशक डॉ राजीव प्रकाश द्वारा डॉ राम कुमार ककानी (निदेशक-आईआईएम्, रायपुर), डॉ ललित गर्ग (यूनिवर्सिटी ऑफ़ माल्टा, मिसदा), बिमलेंद्र झा (एमडी, जेएसपी ग्रुप ऑफ़ कम्पनीज), डॉ बी. के. स्थापक (पूर्व कुलपति- सीएसवीटीयू, भिलाई एवं पूर्व निदेशक- तकनीकी शिक्षा, म. प्र.) प्रो अनुपम शुक्ल (निदेशक-SVNIT, सूरत) नीलेश शाह ( VP & Business Head -JSP, रायपुर ), डॉ दिलीप सिंह सिसोदिया (सह प्राध्यापक- NIT, रायपुर ), प्रो इंग कार्ल जेम्स डेबोनो (प्रोफेसर, सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी संकाय, यूनिवर्सिटी ऑफ़ माल्टा , मिसिडा), डॉ आर. डी. पाटीदार (कुलपति – ओपी जिंदल विश्वविद्यालय , रायगढ़) एवं अन्य गणमान्य व्यक्तियो की उपस्थिति में किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें :-भारत में कोरोना वायरस के नए सब वेरिंएट के बढ़ते मामलों के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किया बयान

ज्ञातव्य हो कि रायगढ़ के पुंजिपथरा स्थित ओपी जिंदल विश्वविद्यालय की स्थापना 2014 में (राज्य बिल अधिनियम 13) देश के प्रतिष्ठित औद्योगिक समूह – जिंदल ग्रुप द्वारा देश और विदेश के छात्रों को विश्व स्तरीय शिक्षा और प्रशिक्षण प्रदान करने के उद्देश्य से की गई थी। विश्वविद्यालय विश्वस्तर के पाठ्यक्रम, विश्वस्तरीय शिक्षक, आधुनिक शिक्षण विधियाँ, अत्याधुनिक बुनियादी ढाँचे और शिक्षार्थियों को एक जीवंत परिसर प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। कई प्रतिष्ठित पुरस्कारों से सम्मानित यह विश्वविद्यालय इस्पात प्रौद्योगिकी और प्रबंधन का सबसे विशिष्ट और विश्वस्तरीय विश्वविद्यालय बनने की ओर अग्रसर है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img

More Articles