यूक्रेन में रूस का ईरानी ड्रोन इस्तेमाल करना दिखाता है कि इस युद्ध में असली विजेता ईरान है

Must Read

डेनवर: यूक्रेन में युद्ध एक देश को अपनी विदेश नीति और राष्ट्रीय सुरक्षा उद्देश्यों को हासिल करने में मदद कर रहा है, लेकिन यह न तो रूस है और न ही यूक्रेन।

वह है ईरान।

यह 17 अक्टूबर, 2022 की सुबह साफ तौर पर जाहिर हो गया, क्योंकि यूक्रेन की राजधानी कीव में नागरिक ठिकानों पर ईरान में बने ड्रोन से हमला किया गया। रूस ने यूक्रेन के राष्ट्रीय ऊर्जा कंपनी मुख्यालय को नुकसान पहुंचाने के लिए ईरानी ड्रोन का इस्तेमाल किया और इस दौरान चार नागरिक भी मारे गए।

ईरान युद्ध में रूस के सबसे मुखर समर्थकों में से एक है। ईरानी राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति में विशेषज्ञता रखने वाले, एक सैन्य विश्लेषक के रूप में, मुझे लगता है कि इसका यूक्रेन के साथ बहुत कम लेना-देना है और यह अमेरिका के साथ ईरान की दीर्घकालिक रणनीति से जुड़ा है।

यूक्रेन पर रूसी आक्रमण को छह महीने बीत चुके हैं और रूस की जनशक्ति, सैन्य भंडार, अर्थव्यवस्था और राजनयिक संबंधों का नुकसान जारी है, नेता व्लादिमीर पुतिन ने यूक्रेन में जीत हासिल करने के लिए एक अप्रत्याशित लेकिन आवश्यक ईरानी जीवन रेखा का विकल्प चुना, जैसा उसने सीरिया में किया था, जहां 2015 से बशर अल-असद की सरकार को सत्ता में बनाए रखने के लिए रूसी सैनिक लड़ रहे हैं।

और ऐसे समय में जब इस्लामी गणतंत्र ईरान की सरकार अपने निरंकुश शासन के खिलाफ बढ़ते नागरिक विरोध का सामना कर रही है, पुतिन के कदम ने, ईरान को अपने राष्ट्रीय हितों को बढ़ावा देने में प्रगति करने में मदद की है।

हर जगह अमेरिका का विरोध

1979 की इस्लामी क्रांति के बाद से, ईरान के नेताओं का मानना ??है कि अमेरिका लगातार ईरान की सरकार को गिराने की योजना बना रहा है। वे वांिशगटन के नेताओं को ईरानी राष्ट्रीय हितों – आर्थिक आत्मनिर्भरता, अंतर्राष्ट्रीय वैधता, क्षेत्रीय सुरक्षा, शक्ति और प्रभाव प्राप्त करने- में सबसे बड़े खतरे और बाधा के रूप में देखते हैं ।

ईरान के नेताओं की आशंकाएँ तर्कहीन नहीं हैं – ईरानी मामलों में अमेरिकी हस्तक्षेप का लंबा इतिहास, दोनों देशों के बीच लगातार खुली दुश्मनी और ईरान के निकट अमेरिकी सैन्य जमाव को लेकर दशकों से तेहरान में नेताओं को बहुत ंिचता है।

कई मध्य पूर्वी देशों में अमेरिकी सैन्य बलों की मौजूदगी है, फिर चाहे वह किसी के बुलावे पर हो या उसके बिना। अपने राष्ट्रीय हितों को बढ़ावा देने के लिए, ईरान अमेरिकी सेना को इस क्षेत्र से बाहर निकालने और वहां अमेरिकी राजनीतिक प्रभाव को कम करने के लिए काम कर रहा है।

ईरान का एक और भी बड़ा उद्देश्य उस व्यवस्था को समाप्त करना है, जिसे वह अमेरिका के प्रभुत्व वाली वैश्विक राजनीतिक व्यवस्था के रूप में देखता है।

ईरान ने गैर-सरकारी मिलिशिया और अमेरिका का उग्र विरोध करने वाले देशों की एकजुट सरकारों के साथ साझेदारी बनाए रखते हुए अमेरिकी प्रभाव का मुकाबला किया। ईरान उग्रवादी साझेदार और कुछ प्रॉक्सी समूहों के एक नेटवर्क का हथियार, प्रशिक्षण, धन – और, कुछ मामलों में, दिशा प्रदान करके पोषण करता है, जिनकी अपनी राजनीतिक प्राथमिकताएं और महत्वाकांक्षाएं ईरान के उद्देश्यों के साथ मेल खाती हैं। ईरान से मदद लेने वालों में हिज्Þबुल्लाह, हमास और फÞििलस्तीनी इस्लामिक जिहाद, मित्रवत इराकी मिलिशिया और यमन में अंसार अल्लाह हैं, जिन्हें हौथी या हौथी विद्रोहियों के रूप में जाना जाता है।

इन लड़ाकों और उनके राजनीतिक हथियारों के माध्यम से, ईरान अपना प्रभाव बढ़ाता है और लेबनान, सीरिया, इराक और यमन जैसे देशों में ईरान के अनुकूल सरकार बनाने के लिए काम करता है। यह अमेरिकी सेना को धमकाता है और इजरायल, जॉर्डन, सऊदी अरब, कुवैत, बहरीन और संयुक्त अरब अमीरात जैसे देशों में पश्चिमी-सहयोगी सरकारों का विरोध करता है।

राष्ट्रीय स्तर पर, ईरान कोई स्थायी पारस्परिक रक्षा संधियाँ नहीं रखता है। इसके निकटतम रणनीतिक साझेदारों में सीरिया, वेनेजुएला, उत्तर कोरिया, चीन और रूस शामिल हैं। वे राजनीतिक, आर्थिक और सैन्य रूप से सहयोग करते हैं ताकि उनके नेता अमेरिका के नेतृत्व वाली विश्व राजनीतिक व्यवस्था का एक विकल्प तैयार कर सकें।

उस सहयोग में अमेरिकी राष्ट्रीय हितों को कमजोर करना और पश्चिमी राजनीतिक दबाव और आर्थिक प्रतिबंधों को कम करने या रोकने में मदद करना शामिल है।

बचाव के लिए तेहरान

यूक्रेन में रूस के वर्तमान युद्ध ने केवल कुछ ही हमदर्द दोस्त उसके साथ बाकी बचे है। कुछ राजनीतिक नेता पुतिन के नए राजनीतिक अलगाव और अमेरिका के प्रति संबंधित दुश्मनी को ईरानी नेता अयातुल्ला अली खामेनेई से अधिक समझते हैं। लेकिन ईरान-रूस संबंध जटिल हैं।

दोनों देशों के सीरिया के ताकतवर नेता असद की उनके देश की विपक्षी ताकतों को हराने में मदद करने के पीछे भी साझा हित हैं, लेकिन विभिन्न राष्ट्रीय हितों के साथ। असद को बचाने से रूस को मध्य पूर्व में एक प्रमुख शक्ति के रूप में खुद को फिर से स्थापित करने में मदद मिलती है। ईरान के लिए, एक मित्रवत सीरिया ईरान के अमेरिका विरोधी, इसराइल विरोधी गठबंधन में एक महत्वपूर्ण कड़ी है।

यूक्रेन में रूस की दुर्दशा ने उसके नेता को दो तरह से ईरान से मदद मांगने के लिए मजबूर किया। सबसे पहले, ईरानी सेना की एक शाखा इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड्स कोर, ने उस शून्य को भरने के लिए पूरक सेना प्रदान की, जब रूस ने अपने यूक्रेन अभियान के लिए सीरिया से अपने सैनिकों को बुलाया।

दूसरा, रूस ने कीव के पश्चिमी सर्मिथत शस्त्रागार का मुकाबला करने के लिए ईरान के कम लागत वाले और युद्ध-सिद्ध मानव रहित हवाई वाहनों का उपयोग किया है, जिन्हें आमतौर पर ड्रोन के रूप में जाना जाता है।

जुलाई में, कई रूसी अधिकारियों ने ईरान की यात्रा की और ईरानी शहीद-129 और शहीद-191 ड्रोन संचालन पर प्रशिक्षण प्राप्त किया। अगस्त 2022 की शुरुआत में, अज्ञात खुफिया स्रोतों और यूक्रेनी अधिकारियों ने संकेत दिया कि रूस ने यूक्रेन में ईरानी ड्रोन का इस्तेमाल किया।

अमेरिका और संबद्ध सुरक्षा अधिकारियों के अनुसार, यूक्रेन में उपयोग के लिए रूस दो प्रकार की ईरान निर्मित कम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइलें लेने जा रहा है। इससे ईरान पर उसकी सैन्य निर्भरता और भी बढ़ जाएगी। यूक्रेन युद्ध ईरान के हितों को बढ़ावा देता है हालांकि अति उत्साह में बनाया गया यह गठबंधन रूस को यूक्रेन को हराने में मदद तो नहीं कर सकता, पर यह ईरान के राष्ट्रीय हितों को बढ़ावा देगा।

मॉस्को दूसरा सबसे बड़ा वैश्विक हथियार निर्यातक है, और ईरान से हथियारों के आयात का आश्चर्यजनक परिवर्तन रूस की समस्याओं की गंभीरता का संकेत देता है। यह आत्मनिर्भरता के उद्देश्य से हथियारों के उत्पादन से परे तेहरान के हथियार उद्योग को वैध और विस्तारित भी करता है। यह एक गठबंधन ईरान को एक प्रमुख हथियार निर्यातक के रूप में अधिक प्रमुख भूमिका की ओर ले जाता है।

अंत में, यूक्रेन में रूस का युद्ध एक नए रास्ते का विस्तार करता है जिसके द्वारा ईरान सीधे अमेरिका द्वारा प्रदत्त हथियारों का मुकाबला कर सकता है, साथ ही यूरेशिया में अमेरिका और नाटो के प्रभाव को कम करने का अवसर भी दे सकता है। यूक्रेन में रूसी सेना के खिलाफ कहर बरपा रहे अमेरिकी हथियारों के खिलाफ ईरान के ड्रोन मास्को को एक प्रभावी जवाबी ताकत दे सकते हैं, जिसकी उसे शिद्दत से जरूरत थी।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img

More Articles