दक्षिण अफ्रीकी पुरुषों में महिलाओं की तुलना में टीबी से मरने की आशंका अधिक होती है

Must Read

दुनिया भर में महिलाओं की तुलना में पुरुषों को टीबी होने और उनके इससे मरने की आशंका अधिक होती है।
हमने हाल ही में उन विभिन्न कारकों को स्थापित करने के लिए शोध किया जो दक्षिण अफ्रीका में पुरुषों के बीच टीबी की उच्च दर की व्याख्या करते हैं। टीबी के वैश्विक बोझ में 60 प्रतिशत का योगदान देने वाले शीर्ष छह देशों में दक्षिण अफ्रीका को स्थान दिया गया है।

हमारा मुख्य निष्कर्ष यह था कि महिलाओं की तुलना में पुरुषों में टीबी विकसित होने और इस बीमारी से मरने की संभावना 70 प्रतिशत अधिक है। हमारा अनुमान है कि 2019 में, प्रति 100,000 वयस्क पुरुषों में 801 को टीबी विकसित हुई, जबकि महिलाओं में यह दर प्रति 100,000 पर 478 थी।

वर्तमान टीबी हस्तक्षेप बायोमेडिकल दृष्टिकोण पर ध्यान केंद्रित करते हैं जिसमें निवारक टीबी दवा, टीबी रोगियों का निदान और उन्हें एंटी-टीबी दवाओं के साथ इलाज करने पर जोर दिया जाता है। हालाँकि, हमारा शोध दर्शाता है कि सामाजिक आर्थिक स्थितियों और टीबी के अन्य निर्धारकों से निपटना भी महत्वपूर्ण है।

स्वास्थ्य सुविधाओं तक पुरुषों की पहुंच में सुधार की जरूरत है और पुरुषों को चिकित्सा देखभाल लेने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए और अधिक प्रयास करने की जरूरत है।

हमारा गणित मॉडल

हमने अपने थेम्बिसा टीबी मॉडल का उपयोग किया, जिसे हाल ही में केप टाउन विश्वविद्यालय के संक्रामक रोग महामारी विज्ञान और अनुसंधान केंद्र में विकसित किया गया है।

यह गणितीय मॉडल समय के साथ दक्षिण अफ्Þरीकी वयस्क टीबी महामारी का अनुकरण करता है। क्योंकि एचआईवी टीबी के लिए सबसे महत्वपूर्ण जोखिम कारक और महामारी का प्राथमिक चालक है, टीबी मॉडल को मौजूदा थेम्बिसा एचआईवी मॉडल के साथ जोड़ा गया है।

सक्रिय टीबी से पीड़ित लगभग 60 प्रतिशत व्यक्ति एचआईवी के साथ भी जी रहे हैं। मॉडल से पता चला कि 1990 और 2019 के बीच, दक्षिण अफ्रीकी पुरुषों में टीबी विकसित हुई और महिलाओं की तुलना में उनकी मृत्यु दर लगातार उच्च बनी रही।

हमारा अनुमान है कि 2019 में महिलाओं की तुलना में पुरुषों में टीबी के 1.6 गुना अधिक नये मामले और 1.7 गुना अधिक मौतें हुईं। हमारे परिणाम और भी अधिक चौंकाने वाले हैं क्योंकि एचआईवी पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक प्रचलित है। तब अपेक्षा यह होगी कि महिलाओं में टीबी की घटना अधिक होनी चाहिए।

कुछ जोखिम

पुरुषों में उच्च टीबी महामारी में योगदान देने वाले अन्य कारकों में अत्यधिक शराब का सेवन, धूम्रपान, मधुमेह और अल्पपोषण शामिल हैं। हमारा अनुमान है कि 2019 में प्रति 100,000 वयस्क पुरुषों में से 801 में टीबी विकसित हुई, जिनमें से 51 प्रतिशत भारी शराब के सेवन, 30 प्रतिशत धूम्रपान और 16 प्रतिशत अल्पपोषण के कारण थे।

महिलाओं की संख्या बहुत कम थी। 2019 में प्रति 100,000 में से 478 वयस्क महिलाओं में टीबी विकसित हुई, जिनमें से 30 प्रतिशत भारी शराब के उपयोग, 15 प्रतिशत धूम्रपान और 11 प्रतिशत अल्पपोषण के कारण थीं।

कम परीक्षण दरें

हमने दिखाया कि कम परीक्षण दर और पुरुषों में टीबी का इलाज शुरू करने में देरी से मृत्यु दर में 7 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। पिछले शोध में पाया गया है कि पुरुषों को नौकरी या कोई कामकाज करना होता है। इससे उनका क्लिनिक जाना या सुरक्षित उपचार के लिए समय निकालना अधिक कठिन है क्योंकि इससे उनकी कमाई प्रभावित होगी।

जब पुरुष स्वास्थ्य देखभाल तक पहुंचते हैं तो वे अक्सर अधिक उम्र के और बीमार होते हैं और उनके इलाज बंद करने की संभावना अधिक होती है। हमारे विश्लेषण से पता चला कि महिलाओं को एचआईवी परीक्षण और एंटीरेट्रोवाइरल थेरेपी सहित एचआईवी स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंचने से अधिक लाभ हुआ। इससे टीबी की घटनाओं और मृत्यु दर में काफी कमी आई।

हमारा अनुमान है कि 2019 में, मुख्य रूप से एचआईवी के इलाज के कारण, महिलाओं में टीबी के मामलों में 38 प्रतिशत की गिरावट आई है। मौतों में भी 52 प्रतिशत की कमी आई। इसके विपरीत, पुरुषों में टीबी के मामलों में 18 प्रतिशत की गिरावट आई और मौतों में 29 प्रतिशत की कमी आई।

अगले कदम

पुरुषों में तपेदिक की अधिक घटनाएं और मृत्यु दर पुरुषों के लिए स्वास्थ्य सेवाओं को अधिक सुलभ बनाने और तपेदिक और एचआईवी देखभाल में उनके प्रतिधारण में संरचनात्मक बाधाओं को दूर करने की आवश्यकता पर प्रकाश डालती है। टीबी, एचआईवी और अन्य संभावित सह-रुग्णताओं के परीक्षण प्रदान करने के लिए कार्यस्थलों पर मोबाइल क्लीनिक तैनात जा सकते हैं।

इसके अतिरिक्त, प्रभावी सामाजिक-आर्थिक हस्तक्षेप की भी आवश्यकता है। दुनिया भर में किए गए अध्ययनों की समीक्षा से पता चला है कि स्वास्थ्य चिकित्सकों और परिवार के सदस्यों द्वारा संचालित धूम्रपान विरोधी कार्यक्रमों ने 82 प्रतिशत तक की सफलता दर हासिल की है।

अत्यधिक शराब की खपत को रोकने के लिए स्व-सहायता कार्यक्रमों को शराब पर कराधान में वृद्धि और शराब की बिक्री को प्रतिबंधित करने वाले कानूनों को सख्ती से लागू करने जैसे संरचनात्मक हस्तक्षेपों की आवश्यकता है।
भारत में हाल ही में किए गए एक परीक्षण से पता चला है कि पोषण में सुधार के लिए परिवारों को भोजन उपलब्ध कराने से टीबी को 50 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है।

हालाँकि बायोमेडिकल दृष्टिकोण से टीबी महामारी में गिरावट आई है, फिर भी दक्षिण अफ्रीका को अभी भी उच्च टीबी बोझ वाले देश के रूप में वर्गीकृत किया गया है। चिकित्सा उपचार को सामाजिक-आर्थिक स्थितियों से निपटने के उपायों के साथ समाहित करने की आवश्यकता है। तभी हम दक्षिण अफ्रीका में टीबी महामारी को कम करने में वास्तविक प्रगति कर पाएंगे।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img

More Articles