Chhattisgarh: सफेद छुई की खुदाई, 4 लोगों की मौत, सीएम भूपेश ने जताया दुख…

Must Read

मनेंद्रगढ़: छत्तीसगढ़ के मनेंद्रगढ़-चिरमिरी-भरतपुर जिले में बड़ा हादसा हो गया है। यहां नदी के पास छुई (कच्चे घर की पुताई करने की सफेद मिट्टी) खुदाई के दौरान मिट्टी धंस गई। जिसमें दबकर 4 लोगों की मौत हो गई है। इनमें 3 महिलाएं शामिल हैं। मामला खड़गवा थाना क्षेत्र का है।

जानकारी के मुताबिक, बंजारीडांड मौहारी पारा के लोहरिया नदी में मजदूर छुई मिट्‌टी की खुदाई कर रहे थे। इसी दौरान अचानक मिट्‌टी का बड़ा हिस्सा नीचे धंस गया। माना जा रहा था कि अंदर और भी लोग फंसे हो सकते हैं। इस वजह से जेसीबी से रेस्क्यू ऑपरेशन भी शुरू किया गया था। मगर किसी और के शव नहीं मिले हैं। जिसके बाद रेस्क्यू ऑपरेशन बंद कर दिया गया है।

घटना की सूचना के बाद पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। वहीं इसकी खबर फैलते ही बैकुंठपुर विधायक अंबिका सिंहदेव भी घटनास्थल पर पहुंचकर रेस्क्यू ऑपरेशन को करीब से देखा। ऐसा कहा जा रहा है कि हादसा शाम 6 बजे के आस-पास हुआ है।

मृतकों के शवों को जिला अस्पताल पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया है। ऐसा कहा जा रहा है कि ये लोग खुद ही खुदाई के लिए यहां पहुंचे थे। इसी दौरान हादसा हो गया है।

सीएम ने जताया दुख

उधर, घटना को लेकर सीएम भूपेश बघेल ने दुख जताया है। मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन को पीड़ित परिवारों के हर संभव मदद के निर्देश दिए हैं।

इन लोगों की हुई मौत

1-पूजा, पिता रन सिंह गोंड निवासी पोंटेडांड 2- रामसुंदर पिता रामदास, निवासी पोंटेडांड 3- मनमति पति शिवकुमार गोंड निवासी गड़तर 4-मीरा बाई पति अमर सिंह निवासी गड़तर

5 महीने पहले 6 की मौत हुई

5 महीने पहले बस्तर जिले में स्थित एक छुई खदान धंसने से वहां काम कर रहे 6 मजदूरों की दबने से मौत हो गई थी। मृतकों में 5 महिलाएं और 1 पुरुष शामिल थे। दो घायलों में एक 14 साल की लड़की भी शामिल थी। मलबे के नीचे कुछ और लोगों के दबे होने की आशंका के चलते रेस्क्यू टीम ने काफी देर तक मलबा हटाकर सर्चिंग अभियान चलाया था। मलबा हटाने के बाद वहां कोई और लोगों के नहीं दबे होने की पुष्टि होने के बाद रेस्क्यू ऑपरेशन बंद किया गया था।

कोयला खदान धंसने से दो ग्रामीणों की मौत

सूरजपुर में 10 महीने पहले SECL की बंद पड़ी कोयला खदान धंसने से दो ग्रामीणों की मौत हो गई थी। बताया जा रहा है कि दोनों ग्रामीण कोयला चोरी करने के लिए खदान में गए थे। इसी दौरान हादसा हो गया। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से शव को बाहर निकाला। इसके बाद उनके शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया।

चिरमिरी में 2 ‌वर्ष पहले भी कोयला खदान धंसने से एक महिला की मौत हो गई थी। महिला अवैध रूप से कोयला खनन के लिए गई थी। सूचना पर पुलिस ने JCB की सहायता से करीब 10 फीट नीचे दबे महिला के शव को बाहर निकालवाया। शव का शुक्रवार को पोस्टमार्टम कराया गया। कोयला तस्कर अवैध रूप से खनन करवा कर ईंट-भट्टों को बेच रहे थे।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

spot_img

More Articles